Twitter
Advertisement
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

NCERT Political Science Book Change: NCERT की किताब में गुजरात दंगे और अयोध्या विवाद वाले चैप्टर में बदलाव पर घमासान

NCERT Books Edit: एनसीईआरटी की किताबों में कुछ चैप्टर में बदलाव की बात पिछले कुछ महीनों से की जा रही थी. नई किताबों में अयोध्या बाबरी मस्जिद विवाद और गुजरात दंगों से जुड़े चैप्टर में बदलाव किया गया है. 

Latest News
NCERT Political Science Book Change: NCERT की किताब में गुजरात दंगे और अयोध्या विवाद वाले चैप्टर में बदलाव पर घ��मासान

NCERT की किताब में बदले गए चैप्टर

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

एनसीईआरटी (NCERT) की 12वीं पॉलिटिकल साइंस की किताबों में कुछ चैप्टर में बदलाव पर राजनीतिक घमासान शुरू हो गया है. विपक्षी दलों समेत कई राजनीतिक विश्लेषकों और बुद्धिजीवियों ने इसे सिलेबस का भगवाकरण बताया है. गुजरात दंगों और बाबरी मस्जिद विवाद के बड़े हिस्से को एडिट किया गया है. बाबरी मस्जिद के लिए तीन गुंबदों वाला ढांचा शब्द का इस्तेमाल किया गया है. दूसरी ओर एनसीईआरटी ने स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि सिलेबस में बदलाव बच्चों के बेहतर नागरिक बनने की संभावनाओं को देखकर लिया गया है.   

बाबरी विवाद और गुजरात दंगों के संदर्भ में बदलाव 
एनसीईआरटी ने 12वीं की राजनीति विज्ञान की किताबों में गुजरात दंगों और अयोध्या बाबरी मस्जिद विवाद के संदर्भ में बदलाव किया गया है. नई किताबों में बाबरी मस्जिद का नाम नहीं लिया गया है. इसे तीन गुंबद वाली आधारभूत संरचना का नाम दिया गया है. चैप्टर में पेज की संख्या भी कम की गई है और इसे 4 पेज से घटाकर दो पेज का किया गया है. सुप्रीम कोर्ट का हालिया फैसला भी शामिल किया गया है. गुजरात दंगों वाले हिस्से को भी एडिट किया गया है.


यह भी पढ़ें: कश्मीर से सफाया होगा आतंकियों का, एक्शन मोड में आए गृहमंत्री Amit Shah 


NCERT डायरेक्टरने दिया स्पष्टीकरण 
एनसीईआरटी के निदेशक दिनेश प्रसाद सकलानी ने इस विवाद पर कहा, 'स्कूल के बच्चों को दंगों के बारे में पढ़ाने की जरूरत नहीं है. भगवाकरण के आरोप पूरी तरह से निराधार हैं. गुजरात दंगों और बाबरी मस्जिद गिराए जाने के संदर्भों में बदलाव का फैसला लंबे विचार-विमर्श के बाद लिया गया है. दंगों के बारे में पढ़कर बच्चे 'हिंसक और अवसादग्रस्त नागरिक बन सकते हैं. इस पर बेवजह शोर-शराबा नहीं मचाना चाहिए.'


यह भी पढ़ें: राहुल गांधी और अखिलेश यादव ने फिर EVM पर उठाए सवाल, चुनाव आयोग ने दी सफाई  


ख़बर की और जानकारी के लिए डाउनलोड करें DNA App, अपनी राय और अपने इलाके की खबर देने के लिए जुड़ें हमारे गूगलफेसबुकxइंस्टाग्रामयूट्यूब और वॉट्सऐप कम्युनिटी से.

Advertisement

Live tv

Advertisement

पसंदीदा वीडियो

Advertisement