Twitter
Advertisement
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

DNA TV Show: 157 बैग में भरकर ट्रक में लादने पड़े नोट, कांग्रेस सांसद के ठिकानों पर मिली रकम से उठ रहे क्या सवाल

IT Raid on Congress MP: नेताओं के यहां आयकर, ईडी आदि की छापेमारी में भारी मात्रा में नकदी मिलना आम बात हो गया है. इससे आम आदमी के मन में राजनीति को लेकर ख्यालात भी बदलते जा रहे हैं. इस काली परंपरा का डीएनए पेश कर रही है ये रिपोर्ट.

DNA TV Show: 157 बैग में भरकर ट्रक में लादने पड़े नोट, कांग्रेस सांसद के ठिकानों पर मिली रकम से उठ रहे क्या सवाल

DNA TV SHOW

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

डीएनए हिंदी: आयकर विभाग ने ओडिशा और झारखंड में कई जगह छापेमारी की है. इस छापेमारी के वीडियो और फोटो भी सोशल मीडिया पर सामने आए हैं, जिनमें 500-500 के नोटों से अलमारी नहीं बल्कि अलमारियां भरी हुई दिख रही हैं. एक साथ नोटों की इतनी गड्डियां आपने पहले शायद ही देखी होंगी. एक साथ इतने नोट देखकर आपके मन में सवाल उठ रहा होगा कि इतने रुपये किसके हैं? किसके पास से इन्हें जब्त किया गया है? जवाब में आपको किसी नेता का ही ख्याल आएगा और इन नोटों को लेकर भी ऐसा ही है. इतने सारे नोट को कांग्रेस के राज्यसभा सांसद धीरज साहू के ठिकानों से जब्त किया गया है. सबसे पहले आपको इस छापेमारी के बारे में ही बताते हैं.

  • Income Tax Department ने कांग्रेस के राज्यसभा सांसद धीरज साहू के ठिकानों पर Raid की.
  • ये Raid बुधवार की सुबह धीरज साहू के झारखंड, Odisa और बंगाल के ठिकानों पर शुरू हुई थी.
  • IT की 40 Members की Team ने एक साथ Odisa के Boudh, Bolangir, रायगढ़ा और संभलपुर में Raid की.
  • इसके अलावा झारखंड के रांची, Lohardaga में जबकि बंगाल के Kolkata में छापेमारी की गई थी.
  • 10 ठिकानों पर बुधवार से शुरू हुई Raid में अबतक 220 करोड़ से ज्यादा के Note बरामद किये जा चुके हैं.

अब तक नोटों से भरी 9 अलमारी मिल चुकी

दरअसल, Income Tax Department की ये कार्रवाई शराब से जुड़े कारोबार में Tax चोरी की आशंका में शुरू हुई थी, जिसमें IT ने टैक्स चोरी के आरोप में शराब कारोबार से जुड़ी कंपनी के ठिकानों पर छापे शुरू किए थे. 500, 200 और 100-100 के नोटों की गड्डियों को कुल 9 अलमारी में छिपाकर रखा गया था, Income Tax Department के अधिकारियों को इतना Cash ले जाने के लिए 157 बैग की जरूरत पड़ी, जिन्हें Truck में लादकर ले जाया गया. लेकिन नोटों की गिनती अभी खत्म नहीं हुई है. इसलिए माना जा रहा है कि नोटों की बरामदगी की रकम 220 करोड़ से भी ज्यादा हो सकती है और ये 250 करोड़ पार कर सकती है.

पीएम मोदी ने भी जिक्र किया है इस छापेमारी का

Income Tax Department की इस कार्रवाई में जब्त हुए नोटों की तस्वीर साझा करते हुए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने Social Media Site X पर लिखा कि देशवासी बरामद हुए नोटों के ढेर को देखें और फिर उन नेताओं के ईमानदारी के भाषणों को सुनें, जिनके पास से नोट बरामद हुए हैं. साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने लिखा कि जनता से जो पैसा लूटा गया है, उसकी पाई-पाई लौटानी पड़ेगी, उन्होंने लिखा कि ये मोदी की Guarantee है.

कौन हैं धीरज साहू, जिनके ठिकानों पर मिली है इतनी रकम

कांग्रेस के जिस राज्यसभा सांसद धीरज साहू के ठिकानों से इतनी बड़ी रकम जब्त की गई है, वो सांसद होने के साथ-साथ बड़े उद्योगपति भी हैं. आइए उनके बारे में आपको बताते हैं.

  • धीरज शराब बनाने वाली Company Baldev sahu and group of companies से जुड़े हैं.
  • Baldev sahu and group of companies पश्चिमी ओडिशा की सबसे बड़ी देशी शराब बनाने और Sell करने वाली companies में से एक है.
  • कंपनी को धीरज साहू के अलावा उनके परिवार के राजकिशोर साहू, स्वराज साहू और दीपक साहू संभालते हैं.
  • साहू ग्रुप की कई Sister Company हैं, जिनमें Boudh Distillery Private Limited,Baldev Sahu Infra Limited, Kwality Bottlers, and Kishore Prasad-Vijay Prasad Beverage Limited कंपनियां शामिल हैं.
  • Baldev Sahu Infra Limited, Fly Ash Bricks बनाने का काम करती है, जबकि बाकी तीन कंपनियां शराब कारोबार से जुड़ी हैं.
  • 220 करोड़ से ज्यादा की रकम बरामद होने के बाद Income Tax Department ने कंपनी के सभी Bank Account को सीज कर दिया है.
  • अब Income Tax Department कंपनी के मालिकों से Income के Source और इतने बड़ी संख्या में Cash रखने को लेकर पूछताछ कर सकता है.

5 साल में 34 करोड़ से 220 करोड़, साहू के पास नोट छापने की मशीन?

वर्ष 2018 में राज्यसभा चुनाव के दौरान धीरज साहू ने जो शपथ पत्र चुनाव आयोग को दिया था, उसमें अपनी संपत्ति 34 करोड़ रुपये बताई थी. उन्होंने खुद पर 2 करोड़ 36 लाख रुपये का कर्ज भी घोषित किया था. अब 220 करोड़ रुपये से ज्यादा के नोट मिलना. ये साफतौर पर ब्लैकमनी की तरफ इशारा कर रहा है. वरना साहू ने अपने घर पर नोट छापने की मशीन लगा ली है.

आयकर लगातार कस रहा है घोटालेबाजों पर शिकंजा

पिछले कुछ वर्षों में Black Money को लेकर Income Tax Department ने बड़ी कार्रवाई की है. नेताओं के साथ-साथ वित्तीय लेनदेन में गड़बड़ी करने वाले Businessman पर भी शिकंजा कसा गया है. इसी वर्ष 3 अप्रैल को वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने लोकसभा में जानकारी दी थी, कि बीते चार वित्त वर्षों में Income Tax Department ने 4800 करोड़ की Black Money जब्त की है.

  • वित्त वर्ष 2019-20 में आयकर विभाग ने 984 संस्थानों पर Raid की, जिसमें 1290 करोड़ रुपये की संपत्ति को जब्त किया.
  • वित्त वर्ष 2020-21 में आयकर विभाग ने 569 संस्थानों पर कार्रवाई की और 880 करोड़ रुपये की संपत्ति को जब्त किया.
  • इसी तरह वित्त वर्ष 2021-22 में 686 ग्रुप पर Raid की गई थी, जिसमें आयकर विभाग ने 1160 करोड़ रुपये के कालेधन को जब्त किया.
  • वित्त वर्ष 2022-23 में 741 संस्थानों पर कार्रवाई के दौरान आयकर विभाग ने 1765 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की है.

अक्टूबर में भी मिले थे साहू जैसे दो मामले

राज्यसभा सांसद धीरज साहू के 10 ठिकानों से बरामद हुए नोटों की गिनती तो अभी चल ही रही है. इसी वर्ष अक्टूबर में Income Tax Department ने दो बड़ी कार्रवाई की थी, जिनमें करोड़ों रुपये कैश बरामद किया गया था.

  • 16 अक्टूबर 2023 को कर्नाटक में Real State कारोबारी के ठिकानों पर Raid हुई थी.
  • यहां से 94 करोड़ रुपये कैश, 8 करोड़ के Gold-Diamond के गहने और 30 Luxury घड़ियां मिली थी.
  • 12 अक्टूबर 2023 को IT की टीम ने बेंगलुरु में पूर्व महिला पार्षद और उसके परिजनों के 20 ठिकानों पर छापा मारा.
  • Income Tax Department ने छापेमारी में 42 करोड़ रुपये Cash जब्त किया गया था.
  • 27 दिसंबर 2021 को कानपुर के कारोबारी पियूष जैन के ठिकानों पर छापेमारी हुई.
  • जैन के यहां छापे में 194 करोड़ रुपये कैश, 23 किलो Gold और 6 करोड़ रुपये की चंदन की लकड़ी मिली थी.
  • जुलाई 2018 में IT की टीम ने तमिलनाडु में SPK नाम की Company के यहां Raid की थी.
  • तमिलनाडु Raid में विभाग को 163 करोड़ रुपये कैश और 100 किलो सोना बरामद हुआ था।

2000 रुपये के नोट बंद होने से भी नहीं थमा कालाधन

कुछ वक्त पहले Reserve Bank of India ने 2000 रुपये के नोट चलन से बाहर करने की घोषणा की थी. ऐसा करने का उद्देश्य कालेधन पर लगाम कसना था, क्योंकि, बड़ा नोट होने की वजह से 2000 के नोटों से ज्यादा कालाधन जमा किया जा सकता था. लेकिन जिस तरह अब नए Income Tax Department को 500-500 के नोटों की गड्डियों से अलमारियां भरी मिली है, उसे देखकर ऐसा लगता है कि कालाधन जमा करने वाले अपने पैर काफी मजबूती से जमा चुके हैं, जिनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जरूरत है.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

Advertisement

Live tv

Advertisement
Advertisement