Twitter
Advertisement
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Jama Masjid के शाही इमाम बनने वाले Syed Shaban Bukhari ने हिंदू लड़की से की है शादी, पढ़ें पूरी कहानी

सैयद शाबान बुखारी, जामा मस्जिद के 14वें इमाम बन गए हैं. वह साल 2014 में नायब इमाम बने थे. उन्होंने कई देशों में इस्लाम की शिक्षा ली है.

Latest News
article-main

Jama Masjid के नए शाही इमाम Syed Shaban Bukhari.

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

सैयद शाबान बुखारी (Syed Shaban Bukhari) की जामा मस्जिद (Jama Masjid) के शाही इमाम (Shahi Imam) के तौर पर दस्तारबंदी हो गई है. शाही इमाम सैयद अहम बुखारी ने दस्तारबंदी रस्म में अपने बेटे सैयद शाबान बुखारी को नया इमाम बना दिया है.

सैयद शाबान बुखारी इस मस्जिद के नायब इमाम थे. दस्तारबंदी की इस रस्म में इस्लामिक जगत की कई दिग्गज हस्तियां मौजूद रहीं. 29 साल की उम्र में शाबान, इस मस्जिद के शाही इमाम बने हैं. 

हिंदू लड़की से रचा चुके हैं शादी
सैयद शाबान बुखारी, नायब इमाम रहते हुए एक हिंदू लड़की के प्यार में पड़ गए थे. उनकी बेगम एक हिंदू लड़की हैं. वह गाजियाबाद की रहने वाली हैं. उन्होंने जब अपने प्यार के बारे में परिवारवालों को बताया तो लोगों ने इनकार कर दिया.
 


इसे भी पढ़ें- Rajya Sabha Elections 2024: संख्या बल के बावजूद हारी SP और कांग्रेस, UP और HP में क्रॉस वोटिंग ने BJP को जिताया


 

पत्नी ने बदल लिया है धर्म
किसी तरह हिंदू लड़की से शादी करने के लिए परिवार राजी हुआ और धूमधाम से शादी हुई. 13 नवंबर 2015 को दोनों की शादी हुई थी. शाबान के दो बच्चे हैं. हिंदू लड़की को इस्लाम कबूल कराया गया और अब उनका नाम शबानी है.

कितने पढ़े-लिखे हैं नए शाही इमाम
सैयद शाबान बुखारी 11 मार्च 1995 को दिल्ली में पैदा हुए थे. उन्होंने सोशल वर्क में एमिटी यूनिवर्सिटी से मास्टर की डिग्री ली है. 

 


यह भी पढ़ें- हिमाचल में बीजेपी की जीत, CM सुक्खू ने लगाया किडनैपिंग का आरोप


वह इस्लाम में आलमियत और फजीलत ले चुके हैं. उन्होंने मदरसा जामिया अरबिया शम्सुल उलूम दिल्ली से भी इस्लामिक शिक्षा ली है.

14 पीढ़ियों से इमाम है इनका परिवार
सैयद शाबान बुखारी जामा मस्जिद के 14वें शाही इमाम हैं. इनका परिवार 14 पीढ़ियों से मस्जिद को संभालता आया है. जामा मस्जिद 1650 में बनी थी.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

Advertisement

Live tv

Advertisement
Advertisement