Twitter
Advertisement
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Farmers Protest 2024: मिलिए नवदीप जलबेड़ा से, जो किसान आंदोलन में ले आए पोकलेन मशीन, पहले भी रहे हैं चर्चा में

Farmers Protest 2024: हरियाणा-पंजाब के शंभू बॉर्डर पर किसानों के जत्थे कई दिन से धरने पर हैं. यहां पोकलेन मशीन लेकर पहुंचने के बाद नवदीप चर्चा में हैं.

Latest News
article-main
FacebookTwitterWhatsappLinkedin

Farmers Protest 2024: संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) के 'दिल्ली चलो' मार्च के बाद घरों से निकले किसानों के जत्थे कई दिन से हरियाणा-पंजाब के शंभू बॉर्डर पर ठहरे हैं. किसान नेताओं और सरकार के बीच चल रही बातचीत में पक्का हल निकलने तक किसानों ने यहां डेरा डाला हुआ है. हरियाणा सरकार ने शंभू बॉर्डर पर बैरिकेडिंग कराकर किसानों को आगे बढ़ने से रोकने की पक्की तैयारी कर रखी है, लेकिन ये तैयारियां उस समय बेकार दिखीं, जब आंदोलन में किसान नाला साफ करने वाली पावरफुल पोकलेन मशीन और जेसीबी लेकर पहुंच गए. मामूली बैरिकेडिंग ही नहीं दिल्ली बॉर्डर पर बनाई गई कंक्रीट की पक्की बाधा को भी ये मशीनें चंद सेकंड में हटा सकती हैं. ऐसे में इन मशीनों को लेकर आने वाले किसान की चर्चा होना स्वाभाविक ही है. किसान आंदोलन के हर खेमे में अंबाला के जलबेड़ा गांव निवासी नवदीप की चर्चा है, जो इन बख्तरबंद मशीनों को लेकर आने की योजना के मास्टरमाइंड हैं.


यह भी पढ़ें- Farmers Protest: लाठीचार्ज, आंसू गैस के गोले दागे, हरियाणा में किसानों और पुलिस के बीच टकराव


खुराफाती आइडिया के लिए मशहूर हैं नवदीप

नवदीप ने किसान आंदोलन 2.0 में ही बैरिकेडिंग हटाने का यह खुराफाती आइडिया नहीं लगाया है बल्कि पहले भी वे ऐसे आइडिया लेकर आने के लिए चर्चा में रह चुके हैं. दरअसल पिछले किसान आंदोलन में भी नवदीप को तब चर्चा मिली थी, जब किसानों पर पानी बरसा रही पुलिस की वाटर कैनन का मुंह नवदीप ने उल्टा उनकी तरफ ही मोड़ दिया था. नवदीप को तब सोशल मीडिया पर वाटर कैनन बॉय के नाम से चर्चा मिली थी.

'हक मांगने जा रहे दिल्ली, तैयारी पूरी है'

नवदीप का कहना है कि किसान अपना हक मांगने के लिए दिल्ली जा रहे हैं. इसकी पूरी तैयारी हमने कर रखी है. आदेश मिलते ही तोड़ देंगे बैरिकेडिंग. पोकलेन मशीन ला रहे ट्रैक्टर पर बैठकर नवदीप ने एक वीडियो भी बनाया है, जिसमें वे कह रहे हैं कि लड़ना पड़ा तो लड़ेंगे, मरना पड़ा तो मरेंगे. सरकार खुद बैरिकेड हटा ले. हमें तो दिल्ली जाना है. 

किसानों और सरकार के बीच नहीं बन रही बात

किसान नेताओं और केंद्र सरकार के बीच चार दौर की वार्ता हो चुकी है, लेकिन अब तक कोई हल नहीं निकला है. सरकार की तरफ से दिए प्रस्ताव को किसान नेता नकार चुके हैं. ऐसे में मंगलवार से एक बार फिर शंभू और खनौरी बॉर्डर पर किसान उग्र मूड में दिखाई दिए हैं. शुक्रवार देर रात SKM और किसान मजदूर मोर्चा (KMM) ने हालांकि कहा है कि 29 फरवरी को आंदोलन के अगले कदम पर फैसला लिया जाएगा. KMM नेता सरवन सिंह पंधेर ने शुक्रवार रात को खनौरी सीमा पर मीडिया से कहा, 24 फरवरी को किसान कैंडल मार्च निकालेंगे और 26 फरवरी को केंद्र का पुतला फूकेंगे. इसके बाद 29 फरवरी को आंदोलन के अगले कदम की घोषणा की जाएगी. 


पढ़ें- Farmers Protest: किसानों का 'Delhi Chalo' मार्च फिर टला, SKM ने जारी किया नया प्लान


 

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

Advertisement

Live tv

Advertisement
Advertisement