Twitter
Advertisement
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

India UNSC Permanent Seat China: संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद में चीन बना सबसे बड़ा रोड़ा, तो भारत ने यूं सिखाया सबक

India UNSC Permanent Seat China: भारत की संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद की दावेदारी में चीन ने रोड़ा अटकाना बंद नहीं किया है. इस बीच भारत ने भी कड़ा कदम उठाते हुए UNSC को दिया जाने वाला पैसा आधा कर दिया है. 

Latest News
article-main

India Cuts UNSC Budget

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता की राह में चीन ने रोड़े अटकाना बंद नहीं किया है. बीजिंग अपनी चालाकियों से कभी बाज नहीं आता और भारत को परेशान करने का मौका नहीं छोड़ता है. संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद में स्‍थायी सदस्‍यता को टालने पर भारत ने भी चीन पर जुबानी हमले पहले से तेज कर दिए हैं. विदेश मंत्री एस जयशंकर से लेकर संयुक्‍त राष्‍ट्र में भारतीय राजदूत रुचिरा कंबोज ने वर्तमान स्‍थायी सदस्‍यों को जमकर सुनाया है. चीन का नाम लिए बिना ही विदेश मंत्री ने कहा कि भारत की स्थायी सदस्यता का विरोध कोई पश्चिमी देश नहीं कर रहा है.

भारत ने संयुक्त राष्ट्र के लिए घटाया बजट
भारत ने संयुक्‍त राष्‍ट्र को भी एक आर्थिक चोट दी है. भारत ने 1 फरवरी को घोषित किए गए अंतरिम बजट में संयुक्‍त राष्‍ट्र को दी जाने वाली मदद को आधा कर दिया है. पिछले साल 382 करोड़ रुपये की मदद की थी, वहीं इस साल इसे घटाकर 175 करोड़ रुपये कर दिया है. इसे चीन की चालाकियों के जवाब में भारत के सख्त कदम के तौर पर देखा जा रहा है.


यह भी पढ़ें: पंजाब प्रांत को मिली पहली महिला सीएम, मरियम नवाज संभालेंगी सत्ता


China है UNSC में भारत की राह का रोड़ा 
कूटनीतिक मामलों के जानकारों का कहना है कि नई दिल्ली का यह कदम दबाव बढ़ाने के एक तरीके के तौर पर देखा जा सकता है. भारत स्थायी सदस्यता का मजबूत दावेदार है, लेकिन चीन अपने वीटो का इस्तेमाल कर राह मुश्किल बनाता रहा है. फ्रांस, जर्मनी और जापान जैसे देश भी भारत के समर्थन में हैं. यूएनएससी में पांच स्थायी सदस्य हैं - अमेरिका, ब्रिटेन, चीन, रूस और फ्रांस और 10 गैर-स्थायी सदस्य हैं.


यह भी पढ़ें: तेजस्वी यादव की जन विश्वास यात्रा में घुसे चोर, RJD नेताओं की बाइक हो गई चोरी  


बजट कटौती भारत की ओर से प्रतीकात्मक संकेत
विश्‍लेषकों का कहना है कि भारत की ओर से दो करोड़ डॉलर की बजट में कटौती को एक प्रतीकात्मक कदम के तौर पर देखा जाना चाहिए. इससे यूएन के संचालन में कोई बड़ी परेशानी नहीं आएगी. संयुक्त राष्ट्र के संचालन का बजट 3.4 बिलियन डॉलर है. हालांकि, भारत ने बजट कटौती कर UNSC की दिशा में प्रगति नहीं होने की वजह से भारत की चिंता को दिखाने के लिए काफी है.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

Advertisement

Live tv

Advertisement
Advertisement