Twitter
Advertisement
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

High Cholesterol के इन शुरूआती लक्षणों को न करें अनदेखा, वरना हार्ट अटैक-स्ट्रोक से जा सकती है जान

Initial Symptoms Of High Cholesterol: आज हम आपको कुछ ऐसे शुरूआती लक्षणों के बारे में बता रहे हैं, जो कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के संकेत हो सकते हैं..

Latest News
article-main

Initial Symptoms Of High Cholesterol

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

आजकल की खराब जीवनशैली और गड़बड़ खानपान के कारण शरीर में कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) बढ़ना एक गंभीर समस्या बनाता जा रहा है. दरअसल यह एक गंदा पदार्थ है जो खून की नसों में जमा होता है और इसका लेवल अधिक होने से आपको दिल के रोग, नसों के रोग, हार्ट अटैक (Heart Attack) और स्ट्रोक जैसी गंभीर और जानलेवा बीमारियां हो सकती हैं. ऐसे में शरीर में कोलेस्ट्रॉल (High Cholesterol) बढ़ने से रोकना बहुत ही जरूरी है. हालांकि शुरूआती दिनों में कई लोगों को पता नहीं चलता है कि उनका कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ गया है. ऐसे में आज हम आपको कुछ ऐसे शुरूआती लक्षणों के बारे में बता रहे हैं, जो कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के संकेत हो सकते (High Cholesterol Symptoms) हैं. आइए जानते हैं इनके बारे में... 

पहले जान लें क्या है कोलेस्ट्रॉल (What Is Cholesterol)

हेल्थ एक्सपजर्ट्स के मुताबिक यह एक वसा जैसा या मोम जैसा पदार्थ है और यह शरीर में कोशिका झिल्ली, कुछ हार्मोन और विटामिन डी बनाने के लिए महत्वपूर्ण होता है. दरअसल कोलेस्ट्रॉल दो तरह का होता है पहला एलडीएल (LDL Cholestrol) कोलेस्ट्रॉल और दूसरा एचडीएल कोलेस्ट्रॉल (HDL Cholestrol). बता दें कि एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को गंदा माना जाता है क्योंकि यही शरीर में असली परेशानी की जड़ है, वहीं एचडीएल कोलेस्ट्रॉल अच्छा होता है और शरीर के कई कामकाज में मददगार होता है.


यह भी पढे़ं- छोटी-छोटी बीमारियों में लेते हैं Antibiotics? इन बातों का रखें ध्यान, वरना हो सकते हैं ये नुकसान


कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के शुरूआती लक्षण (Early Symptoms Of High Cholesterol)

  • जी मिचलाने की समस्या 
  • शरीर सुन्न होना
  • अत्यधिक थकान होना 
  • सीने में दर्द या एनजाइना महसूस होना 
  • सांस लेने में कठिनाई आना 
  • हाथ-पांव में सुन्नपन या ठंडक महसूस होना 
  • हाई ब्लड प्रेशर की समस्या 

लक्षण महसूस होने पर करें ये काम (Cholesterol Test)

चिंता की बात यह है कि हाई कोलेस्ट्रॉल के बारे में तब तक सही तरह पता नहीं चलता, जब तक की शरीर में कोई गंभीर समस्या नहीं हो जाती है. हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, 11 साल की उम्र के बाद से 55 साल की उम्र तक हर पांच साल में बल लिपिड टेस्ट जरूर कराना चाहिए. इससे समय पर इसका पता चल जाता है.

देश-दुनिया की Latest News, ख़बरों के पीछे का सच, जानकारी और अलग नज़रिया. अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और वॉट्सऐप पर.

Advertisement

Live tv

Advertisement
Advertisement