Twitter
Advertisement
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Rangbhari Ekadashi 2024: कब है रंगभरी एकादशी, जानें तिथि से लेकर शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

हिंदू धर्म में एकादशी व्रत का बड़ा महत्व है. एकादशी (Ekadashi Vrat 2024) हर माह के कृष्ण और शुक्ल पक्ष में आती है. साल में कुल 24 एकादशी आती है. इस दिन व्रत करने मात्र से ही व्यक्ति के सभी पाप और कष्ट दूर हो जाते हैं. 

Latest News
article-main
FacebookTwitterWhatsappLinkedin

Rangbhari Ekadashi 2024 Kab Hai: हिंदू धर्म में भगवान विष्णु की उपासना का विशेष महत्व है. गुरुवार के साथ ही एकादशी (Ekadashi Vrat) के दिन भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करने बड़ा महत्व है. इससे भगवान प्रसन्न होने के साथ ही सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करते हैं. माह में दो और पूरे साल में कुल 24 एकादशी पड़ती है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, एकादशी का व्रत  करने से व्यक्ति के सभी पाप और कष्ट दूर हो जाते हैं. फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि (Ekadashi 2024 Date And Time) पर रंगभरी एकादशी का व्रत रखा जाएगा. इसे आमलकी एकादशी (Amlika Ekadashi 2024) भी कहा जाता है. इस दिन विष्णु जी के साथ महादेव की पूजा का खास महत्व है. आइए जानते हैं फाल्गुन महीने में किस दिन है एकादशी का व्रत, पूजा की विधि और शुभ मुहूर्त...


जानें महाभारत में यक्ष ने युधिष्ठिर से पूछे थे कौन से सवाल, जवाब सुनते ही जिंदा कर दिए थे चारों पांडव


इस दिन है रंगभरी एकादशी Rangbhari Ekadashi 2024

इस फाल्गुनी माह में एकादशी का व्रत 20 मार्च को रखा जाएगा. इसे रंगभरी और आमलकी एकादशी भी कहा जाता है. एकादशी की (Ekadashi Time And Date) तिथि 19 मार्च की रात 12 बजकर 22 मिनट से शुरू होकर अगले दिन 20 मार्च को रात 2 बजकर 23 मिनट पर सामाप्त होगी. ऐसे में एकादशी का व्रत पुष्य नक्ष (Pushya Nakshatr) में 20 मार्च को रखा जाएगा. साथ ही व्रत का पारण अगले दिन 21 मार्च को सुबह 9 बजे से पहले किया जाएगा. 

रंगभरी एकादशी की पूजा विधि Ekadashi Puja Vidhi 2024

रंगभरी एकादशी (Rangbhari Ekadashi 2024) पर सुबह जल्दी उठकर सबसे पहले स्नान करें. इसके बाद स्वच्छ कपड़े पहनकर व्रत का संकल्प लें. लोटे में जलकर भरकर इसमें थोड़ा सा गाय का कच्चा दूध, गंगाजल, शहद और अक्षत को मिलाकर भगवान शिव के मंदिर में शिवलिंग पर (Shivling) अभिषेक करें. इस दिन महिलाएं व्रत करने के साथ ही माता पार्वती को श्रृंगार का सामान अर्पित करें. साथ ही शिवलिंग पर बेलपत्र अर्पित करें. इससे भगवान शिव आपकी सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करेंगे. 

 Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. डीएनए हिंदी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

Advertisement

Live tv

Advertisement
Advertisement