Twitter
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Agnipath Scheme: पुराने सैनिकों को भी बना दिया जाएगा 'अग्निवीर'? इंडियन आर्मी ने दिया जवाब

Agnipath Scheme Indian Army: इंडियन आर्मी ने साफ किया है कि पहले से काम कर रहे जवानों को अग्निवीर योजना में शामिल नहीं किया जाएगा.

article-main

डीएनए हिंदी वेब डेस्क

Updated: Jun 21, 2022, 07:40 PM IST

Edited by

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

TRENDING NOW

डीएनए हिंदी: अग्निपथ योजना (Agnipath Scheme) के बारे में सेना के अधिकारियों की ओर से लगातार बयान जारी किए जा रहे हैं. इंडियन आर्मी (Indian Army) और एयरफोर्स ने भर्तियां निकालने का भी ऐलान कर दिया है. अफवाहों की सच्चाई बताने के लिए भी सेना के अधिकारी लगातार प्रयास कर रहे हैं. एक अफवाह यह है कि पुराने सैनिकों को भी अग्निवीर (Agniveer) बनाया जाएगा. यानी उन्हें भी जल्द रिटायर कर दिया जाएगा. इसी मुद्दे पर आर्मी की ओर से लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने कहा है कि पुराने जवानों को अग्निवीर बनाने की बात पूरी तरह से झूठ है.

सेना के अधिकारियों की प्रेस कॉन्फ्रेंस में लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने कहा, 'यह हमारे देश की सुरक्षा का मामला है. किसी ने अफवाह फैला दी है कि पुराने सैनिकों को भी अग्निवीर योजना में शामिल कर दिया जाएगा. यह बात पूरी तरह से झूठ है.' उन्होंने यह भी बताया कि भर्ती प्रक्रिया में कोई बदलाव नहीं किया गया है. रेजीमेंट की प्रक्रियाएं भी नहीं बदलेंगी. 

यह भी पढ़ें- Agnipath Scheme पर बोले अजीत डोभाल, कहा- भविष्य के लिए जरूरी है यह योजना

'युवा जनसंख्या ज्यादा, आर्मी को उठाना चाहिए फायदा'
लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने आगे कहा, 'दुनिया के किसी भी दूसरे देश में हमारे देश की तरह जनसंख्या नहीं है. हमारे देश के 50 प्रतिशत युवाओं की उम्र 25 साल से कम है. आर्मी को इसका ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाना चाहिए. हमें इसका असर आर्मी में भी दिखना चाहिए.'

यह भी पढ़ें:  Agnipath Protest पर पीएम नरेंद्र मोदी का पहला रिएक्शन! बोले- सुधार बुरे लग सकते हैं लेकिन...

वहीं, एयर मार्शल एस के झा ने कहा, 'पहले साल 2 प्रतिशत अग्निवीरों की भर्ती के साथ शुरुआत की जा रही है. पांचवें साल यह संख्या लगभग 6,000 तक पहुंच जाएगी और 10वें साल तक 9,000 से 10,000 तक पहुंच जाएगी. एयरफोर्स में अब सारी भर्तियां सिर्फ़ 'अग्निवीर वायु' के जरिए ही होगी.'

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों पर अलग नज़रिया, फ़ॉलो करें डीएनए  हिंदी गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

देश और दुनिया की ख़बर, ख़बर के पीछे का सच, सभी जानकारी लीजिए अपने वॉट्सऐप पर-  DNA को फॉलो कीजिए

Live tv