Twitter
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Bihar Politics में झटका खाने के बाद भाजपा ने शुरू की तैयारी, दिल्ली हेडक्वार्टर में की कोर कमेटी मीटिंग

भाजपा के लिए नीतिश कुमार के अलग होने के बाद अब 2024 लोकसभा चुनाव की राह बेहद मुश्किल है. पार्टी ने अगला कदम उठाने के लिए जदयू और राजद की नई सरकार के शपथ ग्रहण पर नजर बना रखी थी. शपथ ग्रहण के बाद शाम को पार्टी की नेशनल कोर कमेटी की मीटिंग बुला ली गई.

article-main
FacebookTwitterWhatsappLinkedin

TRENDING NOW

डीएनए हिंदी: बिहार (Bihar) में मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतिश कुमार (Nitish Kumar) की जदयू (JDU) और तेजस्वी यादव (Tejasvi Yadav) की राजद (RJD) की महागठबंधन सरकार के शपथ ग्रहण के साथ ही सियासी सरगर्मी बढ़ गई है. बिहारी राजनीति में नीतिश से मिली पटखनी के बाद भाजपा (BJP) ने अगली तैयारी शुरू कर दी है. इसके लिए मंगलवार शाम को दिल्ली (Delhi) में भाजपा मुख्यालय पर बीजेपी कोर कमेटी की एक खास मीटिंग आयोजित की गई.

पढ़ें- Bihar Cabinet Expansion: नीतीश ने गृह अपने पास रखा, तेजस्वी को स्वास्थ्य, तेज प्रताप का 'कद घटा'

तय होगी बिहार के लिए अगली रणनीति

बिहार में सत्ता से बाहर होने के बाद भाजपा के लिए राह थोड़ी मुश्किल भरी हो गई हैं. एकतरफ अब राज्य में उनके पास कोई भी मजबूत सहयोगी नहीं बचा है, तो दूसरी तरफ इस बार महागठबंधन में समाज के सभी वर्गों व धर्मों का प्रतिनिधित्व मजबूती से हो गया है. ऐसे में 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव पार्टी के लिए बड़ी चुनौती साबित होने जा रहे हैं. इसी को ध्यान में रखकर मंगलवार को पार्टी की नेशनल कोर कमेटी की बैठक बुलाई गई. 

पढ़ें- नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल का विस्तार, 31 विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथ

भाजपा सूत्रों के मुताबिक, बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda), केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) के साथ ही बिहार से जुड़े कई वरिष्ठ भाजपा नेता शामिल हैं, जिनमें केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh), पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी (Sushil Modi), रविशंकर प्रसाद (Ravishankar Prasad), पूर्व डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद, प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल आदि हैं. बैठक में बिहार के लिए अगली रणनीति तय की गई है.

तय होंगे नए प्रदेश अध्यक्ष और नेता विपक्ष के नाम भी

सूत्रों के मुताबिक, बैठक में इस बात पर चर्चा की गई है कि पार्टी संगठन अब बिहार में किस तरह काम करेगा. सूत्रों के मुताबिक, बैठक के दौरान बिहार में पार्टी के नए प्रदेश अध्यक्ष के नाम पर भी चर्चा की गई. साथ ही विधानसभा व विधानपरिषद में पार्टी की तरफ से नेता विपक्ष की भूमिका निभाने वाले चेहरे भी चुनने के लिए विचार किया गया. ये नाम जल्द ही घोषित होंगे.

बैठक में इस पर भी चर्चा की गई है कि वे कौन से मुद्दे हैं, जिन्हें उठाकर पार्टी अब राज्य में विपक्षी दल की भूमिका के तहत सरकार को घेरेगी. ये मुद्दे विधानसभा के अंदर और बाहर, दोनों जगह मजबूती से उठाए जाएंगे. 

पढ़ें- Karnataka की सरकार पर खतरा? लीक ऑडियो में बोले मंत्री- सरकार चला नहीं रहे जैसे तैसे मैनेज कर रहे हैं

बिहार में जातिगत समीकरण फिलहाल नीतिश के पक्ष में

बिहार में नीतिश की अगुआई वाले नए महागठबंधन में RJD, JDU, कांग्रेस, वामपंथी पार्टियां, जीतन राम मांझी की हम के झंडे तले महादलित शामिल हैं. सामाजिक समीकरण के लिहाज से यह कुनबा बेहद मजबूत और बड़ा हो गया है.

नीतिश और लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के एक साथ आने से बिहार की राजनीति में अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) की दो सबसे मजबूत जातियों कुर्मी व यादव भी एक झंडे तले हो गई हैं. इस समीकरण को तोड़ना 2024 में भाजपा के लिए आसान नहीं होगा.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

देश और दुनिया की ख़बर, ख़बर के पीछे का सच, सभी जानकारी लीजिए अपने वॉट्सऐप पर-  DNA को फॉलो कीजिए

Live tv

पसंदीदा वीडियो