Twitter
Advertisement
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

कौन हैं Prakash Jarwal जो लोकसभा चुनाव से पहले अरविंद केजरीवाल के लिए बने गले की हड्डी

AAP MLA Convicted Prakash Jarwal: लोकसभा चुनाव 2024 से पहले आम आदमी पार्टी को एक और झटका लगा है. पार्टी के विधायक प्रकाश जारवाल को सुसाइड के लिए उकसाने के मामले में कोर्ट ने दोषी करार दिया है. 

Latest News
article-main

Prakash Jarwal

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

आम आदमी पार्टी के विधायक प्रकाश जारवाल को दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने आत्महत्या के लिए उकसाने के केस में दोषी करार दिया है. BJP ने इसे आधार बनाकर अरविंद केजरीवाल सरका पर निशाना साधना शुरू कर दिया है. बीजेपी इसे आम आदमी पार्टी सरकार में माफिया टैंकर को संरक्षण देने के आधार पर निशाना साध रही है. 4 साल पुराने मामले में कोर्ट ने ऐसे वक्त में फैसला सुनाया है, जब लोकसभा चुनाव 2024 में दो महीने का भी वक्त नहीं बचा है. जानें कौन है प्रकाश जारवाल और क्या है यह पूरा मामला, जो दिल्ली के मुख्यमंत्री के लिए परेशानी का सबब बन गया है. 

यह है पूरा मामला 
AAP विधायक प्रकाश जारवाल को आईपीसी की धारा 306 और 120बी के तहत दोषी ठहराया गया है. 2020 में डॉक्टर राजेंद्र सिंह ने आत्महत्या कर ली थी. पुलिस को उनके घर से एक दो पन्ने का सुसाइड नोट भी मिला था जिसमें उन्होंने देवली से आप विधायक और कपिल नागर पर गंभीर आरोप लगाए थे. कोर्ट ने इस मामले में दोनों को भारतीय दंड संहिता की धारा 386, 384, 506 और 120बी के खिलाफ आरोप तय करने का आदेश दिया था. 


यह भी पढ़ें: Dr Rajendra Bhati Suicide Case में दोषी साबित हुए AAP विधायक प्रकाश जारवाल, समझिए पूरा मामला


डॉक्टर ने जारवाल पर प्रताड़ित करने का लगाया था आरोप 
पुलिस ने डॉक्टर राजेंद्र सिंह के घर से एक डायरी भी बरामद की थी. जिसमें डॉक्टर के कुछ पानी के टैंकर जल बोर्ड में चलने की बात कही गई थी. डायरी में उन टैंकर्स के लिए प्रकाश जारवाल पर पैसे मांगने का आरोप लगाया था. इस घटना के बाद से बीजेपी आप पर टैंकर माफियाओं को संरक्षण देने का आरोप लगाती रही है. लोकसभा चुनाव में भी यह अहम मुद्दा बनने वाला है. 


यह भी पढ़ें: अखिलेश यादव को CBI का समन, अवैध खनन केस में किया तलब  


2013 में पहली बार बने विधायक, विवादित रहा है करियर 
प्रकाश जारवाल पहली बार 2013 में देवली से विधायक बने थे और उन्होंने कांग्रेस के बड़े नेता अरविंदर सिंह लवली को हराया था. 2015 में भी वह अपनी सीट बचाने में कामयाब रहे और फिर 2020 में तीसरी बार एमएलए बने. जारवाल आम आदमी पार्टी के युवा चेहरों में शुमार किए जाते हैं. 2018 में उन पर दिल्ली के तत्कालीन मुख्य सचिव ने थप्पड़ मारने और अपशब्द कहने का आरोप लगाते हुए केस दर्ज कराया था. 21 जुलाई 2017 को एक महिला ने प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था. जारवाल का करियर अब तक विवादित रहा है.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

Advertisement

Live tv

Advertisement
Advertisement