Twitter
Advertisement
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Metastatic Breast Cancer बना फेमिना मिस इंडिया त्रिपुरा Rinky Chakma की मौत का कारण, जानें क्या है ये बीमारी

2017 में फेमिना मिस इंडिया त्रिपुरा बनीं Rinky Chakma का निधन हो गया है, रिंकी चकमा को ब्रेस्ट कैंसर था और कैंसर के जानलेवा सेल्स फेफड़े और ब्रेन तक फैल गए थे...

Latest News
article-main

pc: Rinky Chakma/Instagram

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

फेमिना मिस इंडिया त्रिपुरा 2017 (Miss India Tripura 2017) रिंकी चकमा का 28 फरवरी को 29 साल कि उम्र में निधन हो गया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रिंकी चकमा (Rinky Chakma) पिछले 2 साल से कैंसर से जूझ रही थीं. बता दें कि रिंकी को ब्रेस्ट कैंसर था, जिसका ऑपरेशन भी हो चुका था. लेकिन इसके बाद कैंसर के जानलेवा सेल्स फेफड़े और ब्रेन तक फैल गए, जिसके कारण रिंकी चकमा (Rinky Chakma Death Reason) को ब्रेन में ट्यूमर हो गया था, जिसे मेडिकल की भाषा में मैलिग्नेंट फीलोड्स ट्यूमर (Malignant Phyllodes Tumor) कहा जाता है.  

हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer) स्तनों की कोशिकाओं में होने वाला कैंसर है और जब यह कैंसरीकृत कोशिकाएं स्तन से बाहर दूसरे अंगों में फैलनी लगती हैं तो मेटास्टेटिक ब्रेस्ट कैंसर की स्थिति बनती है. आइए जानते हैं इसके बारे में... 

मेटास्टेटिक ब्रेस्ट कैंसर क्या होता है (What Is Metastasis Breast Cancer)

क्लीवलैंड क्लिनिक के मुताबिक, जब कैंसरीकृत कोशिकाएं स्तन से बाहर दूसरे अंगों में फैलनी लगती हैं तो यह स्थिति मेटास्टेटिक ब्रेस्ट कैंसर कहलाता है और यह एडवांस ब्रेस्ट कैंसर होता है जो 4 स्टेज पर होता है. एक रिपोर्ट के मुताबिक ब्रेस्ट कैंसर के फैलने का खतरा 20-30 प्रतिशत मरीजों में होता है और इसका अबतक कोई सटीक इलाज नहीं है. हालांकि कुछ ऐसे ट्रीटमेंट ऑप्शन मौजूद हैं, जिसकी मदद से मरीज लंबे समय तक जिंदा रह सकता है. 


यह भी पढे़ं- छोटी-छोटी बीमारियों में लेते हैं Antibiotics? इन बातों का रखें ध्यान, वरना हो सकते हैं ये नुकसान


क्या हैं मेटास्टेटिक ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण  (Metastasis Breast Cancer Symptoms)

  1. पीठ और गर्दन में असामान्य दर्द की समस्या
  2. हड्डियों में दर्द होना
  3. सांस लेने में दिक्कत और खांसी की समस्या 
  4. ज्यादा थकान महसूस होना
  5. सिर दर्द की समस्या 
  6. मूड में बदलाव होना 
  7. बोलने में कठिनाई होना

यह भी पढे़ं- Congenital Heart Disease क्या है? गर्भावस्था में इन गलतियों के कारण बढ़ता है इस बीमारी का खतरा


ब्रेस्ट कैंसर से कैसे करें बचाव? (Breast Cancer Cure)

ब्रेस्ट कैंसर से बचाव के लिए जरूरी है कि आप अपना वजन कंट्रोल में रखें, इसके अलावा अधिक शराब या स्मोकिंग का सेवन ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को बढ़ता है, ऐसे में इनसे परहेज करें. वहीं नियमित एक्सरसाइज या फिजिकल एक्टीविटी कर भी ब्रेस्ट कैंसर को कंट्रोल किया जा सकता है. साथ ही अपनी लाइफस्टाइल में योग और मेडिटेशन को प्राथमिकता दें. डाइट को भी संतुलित रखें और अपने खाने में ज्यादा से ज्यादा फल और सब्जियों को शामिल करें. इसके अलावा खुद को हाइड्रेट रखने के लिए रोज 8 से 10 ग्लास पानी पीएं. 

Disclaimer: यह लेख केवल आपकी जानकारी के लिए है. इस पर अमल करने से पहले अपने विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श लें.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम प

Advertisement

Live tv

Advertisement
Advertisement