Twitter
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

भारतीय छात्रों की घर वापसी में रोड़े डाल रहा था China, अब भारत ने रद्द किया चीनी नागरिकों का Tourist Visa

कोरोना महामारी के दौरान छात्र वापस लौट आए थे. अब चीन उन्हें जाने की अनुमति नहीं दे रहा है.

article-main

डीएनए हिंदी वेब डेस्क

Updated: Apr 25, 2022, 01:01 PM IST

Edited by

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

TRENDING NOW

डीएनए हिंदीः भारत ने चीनी नागरिकों को जारी किए गए टूरिस्ट वीजा (Tourist Visa) रद्द कर दिए हैं. वैश्विक एयरलाइंस संस्था, अंतरराष्ट्रीय वायु यातायात संघ (International Air Transport Association) ने अपने सदस्य कैरियर्स को इस बारे में जानकारी दी है. चीन के विश्वविद्यालयों में पहले से पढ़ रहे लगभग 22 हज़ार भारतीय छात्र चीन लौटकर ऑफलाइन क्लास में नहीं जा पा रहे हैं, क्योंकि चीन इसकी अनुमति नहीं दे रहा है. ऐसे में भारत की ओर से टूरिस्ट वीजा रद्द किए जाने को चीन की ओर से छात्रों को अनुमति न दिए जाने के जवाब के तौर पर देखा जा रहा है. 

यह भी पढ़ेंः France: लगातार दूसरी बार राष्ट्रपति चुने गए Emmanuel Macron, मरीन ले पेन को हराया 

चीन नहीं दे रहा भारतीय छात्रों को अनुमति
दरअसल 2020 में जब कोरोना महामारी शुरू हुई तो भारतीय छात्रों को अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़कर चीन से वापस लौटना पड़ा. उसके बाद से अभी तक छात्र चीन नहीं लौट पाए हैं. ऐसा इसलिए है क्योंकि कोरोना के चलते चीन में विदेशी नागरिकों के प्रवेश पर काफी हद तक अभी भी प्रतिबंध जारी है. 20 अप्रैल को IATA ने  एक सर्कुलर जारी किया. इसमें कहा गया कि चीन के नागरिकों को जारी किए गए टूरिस्ट वीजा अब मान्य नहीं होंगे. हालांकि भूटान, मालदीव और नेपाल के नागरिकों को भारत जाने की अनुमति होगी. आईएटीए ने यह भी कहा है कि 10 साल के लिए जारी किए गए टूरिस्ट वीजा भी अब मान्य नहीं हैं. आपको बता दें कि आईएटीए एक वैश्विक एयरलाइंस संस्था है. इसमें लगभग 290 सदस्य हैं, जो कि वैश्विक एयर ट्रैफिक के लगभग 80 प्रतिशत हैं.

यह भी पढ़ेंः Emmanuel Macron के जीतते ही पेरिस में भड़का दंगा, पुलिस ने प्रदर्शनकारियों के खिलाफ इस्तेमाल की टीयर गैस

भारत ने चीन से मांगी रियायत
भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने 17 मार्च को कहा था कि हजारों भारतीय छात्रों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए चीन से रियायत मांगी गई है. भारत ने चीन से कहा है कि कड़े प्रतिबंध जारी रहने के कारण छात्रों की पढ़ाई प्रभावित हो रहा है इसलिए इस मामले में छात्रों के हित को ध्यान में रखा जाए.

यह भी पढ़ेंः Nepal Earthquake: नेपाल में भूकंप से आज ही 9,000 लोगों ने पलभर में गंवाई थी जान

अरिंदम बागची ने कहा कि चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने 8 फरवरी को कहा था कि चीन इस मामले पर उचित कार्यवाही कर रहा है और विदेशी छात्रों के चीन लौटने के बारे में भी काम जारी है. बागची ने आगे कहा, 'हालांकि, मैं स्पष्ट कर दूं कि आज की तारीख तक चीन की ओर से भारतीय छात्रों के लौटने को लेकर कोई जवाब नहीं मिला है. हम चीन से यह मांग करते रहेंगे कि छात्रों के हित को ध्यान में रखकर फैसले लिए जाएं और उन्हें चीन लौटने की अनुमति दी जाए, ताकि वे अपनी पढ़ाई पूरी कर सकें.'

गूगल पर हमारे पेज को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें. हमसे जुड़ने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर आएं और डीएनए हिंदी को ट्विटर पर फॉलो करें.

देश और दुनिया की ख़बर, ख़बर के पीछे का सच, सभी जानकारी लीजिए अपने वॉट्सऐप पर-  DNA को फॉलो कीजिए

Live tv