Twitter
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

UK PM Election: क्या विरोधियों को जीत से करारा जवाब देंगे ऋषि सुनक? बोले- मैं PM की दौड़ में Underdog हूं

ऋषि सुनक ने कहा, 'इसमें कोई शक नहीं है कि मैं छुपा रुस्तम (Underdog) हूं. ऐसी ताकतें हैं, जो दूसरे प्रत्याशी की ताजपोशी चाहती हैं, लेकिन मेरा मानना है कि सदस्य विकल्प चाहते हैं और वे सुनने के लिए तैयार हैं.’

Latest News
article-main
FacebookTwitterWhatsappLinkedin

TRENDING NOW

डीएनए हिंदी: ब्रिटेन में अगले प्रधानमंत्री की दौड़ में शामिल भारतीय मूल के नेता ऋषि सुनक (Rishi Sunak) ने शनिवार को उन ताकतों पर निशाना साधा, जो कंजर्वेटिव पार्टी का नेतृत्व हासिल करने के मुकाबले में उनकी प्रतिद्वंद्वी लिज ट्रस का साथ दे रहे हैं. उन्होंने कंजर्वेटिव पार्टी के नेतृत्व की लड़ाई में खुद को ‘छुपा रुस्तम’ करार दिया. सुनक ने कहा, ‘इसमें कोई शक नहीं है कि मैं छुपा रुस्तम (Underdog) हूं.

मार्गरेट थैचर के पूर्वी इंग्लैंड स्थित गृह नगर ग्रैंथम में भाषण देते हुए ऋषि सुनक ने कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी में एक धड़ा है, जो चुनाव को विदेश मंत्री की ताजपोशी के तौर पर देखना चाहेगा. उन्होंने यह टिप्पणी परोक्ष रूप से जॉनसन समर्थक मंत्रियों जैसे संस्कृति मंत्री नादिन डोरिस और ब्रेक्जिट अवसरों के मंत्री जैकब रीस मॉग के संदर्भ में की है, जो ट्रस के समर्थन में अभियान चला रहे हैं और सुनक के अभियान को तरजीह नहीं देने की अपील कर रहे हैं.

Pakistan News: दिवालिया होने से बचाने के लिए बेची जाएगी पाकिस्तान की राष्ट्रीय संपत्ति, सरकार लेकर आई अध्यादेश

'मैं प्रधानमंत्री की दौड़ में अंडरडॉग हूं'
सुनक ने कहा कि इसमें कोई शक नहीं है कि मैं छुपा रुस्तम (Underdog) हूं. ऐसी ताकतें हैं, जो दूसरे प्रत्याशी की ताजपोशी चाहती है. लेकिन मेरा मानना है कि सदस्य विकल्प चाहते हैं और वे सुनने के लिए तैयार हैं.’ हालांकि, ऋषि सुनक ने विस्तार से नहीं बताया कि वे ताकतें कौन सी हैं लेकिन दोहराया कि वह पसंदीदा नहीं हैं. बता दें कि ऋषि सुनक और लिज ट्रस के बीच सोमवार को लाइव डिबेट होगी. यही डिबेट कौन होगा ब्रिटेन का अगला प्रधानमंत्री इसका फैसला करेगी. इसके बाद पोस्टल बैलेट से मतदान होगा. 

British PM: ऋषि सुनक फाइनल राउंड भी जीते, जानिए किन देशों में रह चुके हैं भारतीय मूल के राष्ट्रप्रमुख

1960 के दशक में सुनक के परिजन आए थे ब्रिटेन
ऋषि सुनक के दादा-दादी वर्ष 1960 के दशक में पूर्वी अफ्रीका से ब्रिटेन आए थे और उनका जन्म साउथंप्टन में हुआ था. सुनक ने अपने मतदाताओं को ‘करुणा’ का संदेश दिया लेकिन साथ ही अवैध आव्रजन पर सख्त कार्रवाई की भी बात की. सुनक ने दोहराया कि तत्काल महंगाई को नीचे लाने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि बढ़ती महंगाई दुश्मन है जो सभी को गरीब बनाती है.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

देश और दुनिया की ख़बर, ख़बर के पीछे का सच, सभी जानकारी लीजिए अपने वॉट्सऐप पर-  DNA को फॉलो कीजिए

Live tv

पसंदीदा वीडियो