Twitter
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Blockchain Technology यूज कर किसानों को बीज देने वाला भारत का है यह पहला राज्य

कृषि निदेशालय (Directorate of Agriculture) द्वारा लागू की जा रही सभी योजनाओं के तहत बीज, इनपुट, उपकरण आदि के वितरण पर नज़र रखने के लिए ब्लॉकचेन तकनीक को लागू करने की परिकल्पना की गई है.

article-main
FacebookTwitterWhatsappLinkedin

TRENDING NOW

डीएनए हिंदी: देश में कृषि में क्रांति लाने वाले एक महत्वपूर्ण विकास में, कृषि निदेशालय, झारखंड (Directorate of Agriculture Jharkhand) और ग्लोबल ब्लॉकचेन टेक कंपनी सेटलमिंट, इंडिया ने संयुक्त रूप से ब्लॉकचेन तकनीक (Blockchain Technology) के आधार पर किसानों को बीज वितरण (Seed Distribution) की सफल शरुआत की है.  भारत में दो वर्षों के संचालन में, सेटलमिंट ने महत्वपूर्ण प्रगति की है और भारत में ब्लॉकचेन अनुकूलन को सक्षम करने की दिशा में तेजी से कदम उठाए हैं. झारखंड में किसानों को ब्लॉकचेन आधारित बीज वितरण का सफल कार्यान्वयन इसका जीता जागता उदाहरण है. 

झारखंड देश में ब्लॉकचैन को लागू करने वाला पहला राज्य है जिसका उपयोग बीज वितरण को ट्रैक करने के लिए किया जा रहा है. ब्लॉकचेन प्लेटफॉर्म बीज आपूर्ति वितरण को ट्रैक करता है- कृषि निदेशालय से आपूर्ति आदेश जारी करने से, जिला कृषि अधिकारी द्वारा बीज की मांग रखने से, ट्रैकिंग बीज पैनल में शामिल सरकारी बीज उत्पादक एजेंसी से वितरकों, खुदरा विक्रेताओं, लैंप्स/पैक्स, एफपीओ और अंत में किसानों को वितरण. ब्लॉकचेन को लागू करने के कदम का उद्देश्य उन बीजों की पारदर्शिता और प्रामाणिकता लाना है जो किसानों को बीज विनिमय योजना और अन्य योजनाओं के तहत प्राप्त होते हैं.

यह भी पढ़ेंः- 5G Update in India: सेंट्रल मिनिस्टर ने टेलीकॉम कंपनियों से कही यह बड़ी बात

राज्य बीज वितरण योजना, एनएफएसएम, पीएमकेएसवाई और एनएचएम जैसी कृषि निदेशालय द्वारा लागू की जा रही सभी योजनाओं के तहत बीज, इनपुट, उपकरण आदि के वितरण पर नजर रखने के लिए ब्लॉकचेन तकनीक को लागू करने की परिकल्पना की गई है. यह बिचैलियों को दूर करते हुए योजनाओं के पारदर्शी निष्पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा क्योंकि यह पता लगाने की क्षमता, वास्तविक समय की निगरानी और योजनाओं के कुशल प्रबंधन को सक्षम बनाता है. झारखंड की कृषि निदेशक नेशा उरांव ने कहा कि इस सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता बिचैलियों को छानने, लाभार्थियों की पहचान और किसानों के डाटाबेस के निर्माण के साथ-साथ किसानों को सही समय पर गुणवत्तापूर्ण बीज उपलब्ध कराना है.

सेटलमिंट इंडिया के सीईओ, शहजाद फातमी ने कहा, कि हम झारखंड के साथ साझेदारी करके खुश हैं क्योंकि यह देश में ब्लॉकचेन तकनीक के माध्यम से बीज वितरित करने वाला पहला राज्य बन गया है. ब्लॉकचेन एक गेम-चेंजर साबित हो रहा है. यह कृषि सप्लाई चेन को अधिक पारदर्शी और कृषि क्षेत्र पता लगाने योग्य बनाकर क्रांति ला रहा है.

यह भी पढ़ेंः- Cheapest Milk in India: जन्माष्टमी के दौरान जान लीजिये भारत मे कहां मिल रहा है सबसे सस्ता दूध?

बीज वितरण के लिए ब्लॉकचेन का उपयोग करने के लाभों के बारे में बताते हुए, उरांव ने कहा, कि यह वितरकों, खुदरा विक्रेताओं और सबसे महत्वपूर्ण किसानों को समय पर बीज की उपलब्धता को सक्षम करेगा. प्रत्येक किसान को पहले अपने आधार कार्ड नंबर और मोबाइल नंबर के साथ ब्लॉकचैन सिस्टम में रजिस्टर्ड किया जाता है. संबंधित किसान के रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर में ओटीपी की प्रविष्टि के बाद बीज वितरण प्रणाली में लॉग इन किया जाता है. ब्लॉकचेन को लागू करने का उद्देश्य पारदर्शी तरीके से बीज और अन्य योजनाओं के वितरण को सक्षम करना है. 

ब्लॉकचेन साॅल्यूशन को लागू करके झारखंड राज्य उत्पादन-ग्रेड ब्लॉकचेन-आधारित बीज वितरण कार्यक्रम को लागू करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है. राज्य सभी हितधारकों, यानी आपूर्ति, वितरकों और किसानों को उनके प्रशिक्षण और प्रौद्योगिकी को अपनाने में निवेश करने के लिए प्रतिबद्ध है. हर साल, कृषि, पशुपालन और सहकारिता विभाग किसानों को रियायती दर पर खरीफ और रबी दोनों मौसमों के दौरान 30 से ज्यादा फसलों की 300 से ज्यादा बीज किस्मों का वितरण करता है.

यह भी पढ़ेंः- PM Kisan Yojana: e-KYC की डेडलाइन और 12वीं किस्त पर बड़ा अपडेट

वर्तमान खरीफ सीजन के दौरान, विभाग ने अनाज, दलहन, तिलहन और पाठ्यक्रम अनाज के बीज वितरण को पूरी तरह से ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी के माध्यम से कवर किया है. अब तक इस प्लेटफॉर्म पर 3 लाख से अधिक किसान, 600 लैंप्स/पैक्स/प्राइवेट डिस्ट्रीब्यूटर्स और 160 एफपीओ रजिस्टर्ड किए जा चुके हैं.

लगभग 30 हजार क्विंटल बीज वितरित किया गया है. वर्तमान सूखे जैसी स्थिति के कारण, इस खरीफ सीजन के लिए कुल बीज वितरण लगभग 35 हजार से 40 हजार क्विंटल होने का अनुमान है. जैसे-जैसे ब्लॉकचेन को अपनाना कई गुना बढे़गा, पूरी बीज वितरण प्रक्रिया चोरी मुक्त हो जाएगी, जिससे किसान अपने ऐप के माध्यम से प्राप्त विविधता और मात्रा की पुष्टि कर सकेंगे.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

देश और दुनिया की ख़बर, ख़बर के पीछे का सच, सभी जानकारी लीजिए अपने वॉट्सऐप पर-  DNA को फॉलो कीजिए

Live tv