Twitter
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

36 साल का है ये बल्लेबाज, वनडे में कर रहा भारत की कप्तानी, पढ़ें फिर भी क्यों बता रहा खुद को बोझ

टीम इंडिया के एक सीनियर खिलाड़ी ने बड़ी ही खास बात कही है. वो अभी आने वाली सीरीज में टीम इंडिया की कप्तानी भी करने जा रहे हैं. लेकिन इस सब के बावजूद उसने ऐसी बात क्यों कही, आइए जानते हैं

article-main

शिखर धवन

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

TRENDING NOW

डीएनए हिंदी: ये नई टीम इंडिया है... हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि ये टीम इंडिया विराट कोहली और रवि शास्त्री वाली टीम इंडिया नहीं, बल्कि रोहित शर्मा और राहुल द्रविड़ की सोच वाली टीम इंडिया है. इस टीम में हर खिलाड़ी को मौका दिया जा रहा है फिर चाहे वो 20-21 साल का युवा खिलाड़ी हो या 36 साल का कोई मजबूत क्रिकेटर. टीम के लिए क्या बेहतर रहेगा और यंग टैलेंट को किस तरह यूटिलाइज किया जाए ये फिलहाल कोच और कप्तान का फोकस है. 

हर फॉर्मेट की रणनीति भी अलग तरह से बनाई जा रही है. आपने देखा होगा कि ये कतई जरूरी नहीं रह गया है कि जो खिलाड़ी वनडे में अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे, उन्हें टी20 में भी जगह दी गई हो या फिर टी20 में अच्छा खेलने वालों को वनडे में. ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि टी20 वर्ल्ड कप और 50 ओवर वर्ल्ड कप के लिए एक बेहतरीन टीम बनाई जा सके.

Ind vs Pak: इस मामले में पाकिस्तान है T20 का बेताज बादशाह, पड़ोसी देश को पीटना है तो भारत को करना होगा ये काम

धवन हैं सटीक उदाहरण

इस बात का सबसे सटीक उदाहरण है 2018 में आखिरी टेस्ट मैच खेलने वाले शिखर धवन, जो कि अब 50 ओवर क्रिकेट के लिए टीम का अहम हिस्सा बनकर लौटे हैं. धवन की टीम में वापसी हुई और उन्हें वेस्टइंडीज के खिलाफ खेली गई वनडे सीरीज में कप्तान भी चुना गया और अब जिम्बाब्वे के खिलाफ होने वाली वनडे सीरीज में भी धवन ही कप्तान हैं. टीम में अपनी जगह को लेकर और टी20 क्रिकेट से दूर किए जाने पर शिखर धवन ने भी अब खुलकर बातचीत की है.

धवन ने न्यूजएजेंसी पीटीआई को बताया है कि वो टीम के लिए कभी भी बोझ नहीं बनना चाहेंगे और उनके बेसिक्स भी काफी स्ट्रॉन्ग हैं. उन्होंने कहा कि जब तक मैं भारत के लिए खेल रहा हूं, मैं टीम के लिए एक एसेट बनकर रहूंगा बोझ नहीं. मेरी परफॉर्मेंस ही मेरे अनुभव का रिफ्लेक्शन है. मैंने अपनी टेकनीक को बेहतर बनाने के लिए इसपर काफी किया है. साथ ही फॉर्मेट को समझना भी बेहद जरूरी है. मैं वनडे क्रिकेट के डायनेमिक्स अच्छे से समझता हूं और इससे मुझे काफी मदद भी मिली है.'

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान ने Dhoni की कीपिंग पर उठाए बड़े सवाल, बयान सुनकर आप भी पकड़ लेंगे सिर

अपनी उम्र को लेकर भी धवन ने बात की. उन्होंने कहा कि मैं एक फॉर्मेट में भी देश के लिए खेल पा रहा हूं मैं इसका ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाना चाहूंगा. मैं अब 36 साल का हो गया हूं, लेकिन मुझे लगता है मैं अब पहले से भी कहीं ज्यादा फिट हूं. लगातार जिम, योगा, स्किल सेशंस और रनिंग ने मेरी इसमें मेरी काफी मदद की है.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

 

देश और दुनिया की ख़बर, ख़बर के पीछे का सच, सभी जानकारी लीजिए अपने वॉट्सऐप पर-  DNA को फॉलो कीजिए

Live tv