Twitter
Advertisement
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Magh Purnima 2024: आज है माघ पूर्णिमा, जानें शुभ मुहूर्त, पूजा विधि से लेकर स्नान दान तक का महत्व 

Magh Purnima Importance: माघ पूर्णिमा पर भगवान विष्णु के साथ ही माता लक्ष्मी और चंद्रमा की पूजा की जाती है. इनके प्रसन्न होने पर व्यक्ति को बड़े से बड़े पाप से मुक्ति मिल जाती है. इसके साथ ही मानसिक शांति और सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है.

Latest News
article-main
FacebookTwitterWhatsappLinkedin

हिंदू धर्म में पूर्णिमा तिथि (Magh Purnima 2024) का बड़ा महत्व है. इस दिन सुबह सूर्यादय से पहले उठकर पवित्र नदी में स्नान करने के बाद पूजा अर्चना और दान करना बेहद शुभ होता है. सभी पूर्णिमाओं में माघ पूर्णिमा का विशेष महत्व (Magh Purnima Importance) है. इस दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा अर्चना (Lord Vishnu And Maa Lakshmi Worship) की जाती है. उनकी कृपा प्राप्त करने से व्यक्ति के जीवन में चल रही परेशानी और तंगी खत्म हो जाती है. पाप और कष्ट कट जाते हैं. इस बार माघ पूर्णिमा 24 फरवरी दिन शनिवार को मनाई जाएगी. आइए जानते हैं माघ पूर्णिमा का महत्व से लेकर इस दिन पूजा अर्चना का शुभ मुहूर्त और दान से मिलने वाला लाभ... 


यह भी पढ़ें: Somvar Shiv Puja : इन 7 चीजों से करें शिवलिंग का अभिषेक, पूरी होगी हर मनोकामना
 


यह है माघ पूर्णिमा की तिथि और शुभ मुहूर्त (Magh Purnima 2024 Shubh Muhurat)

पंचांग के अनुसार, 23 फरवरी 2024 को दोपहर 3 बजकर 35 मिनट से माघ पूर्णिमा तिथि () की शुरुआत होगी. यह अगले दिन 24 फरवरी को शाम 6 बजकर 3 मिनट तक रहेगी. ऐसे में उदयातिथि को देखते हुए माघ पूर्णिमा 24 फरवरी दिन शनिवार को होगी. इस दिन सुबह किसी भी ​पवित्र नदी में स्नान करने के बाद दान करना बेहद शुभ होता है. इससे व्यक्ति के सभी पाप और दोष कट जाते हैं. इस दिन स्नान और दान का सबसे शुभ मुहूर्त सुबह 5 बजकर 11 मिनट से लेकर 6 बजकर 2 मिनट तक रहेगा. 

स्वर्ग से धरती पर आते हैं देवी देवता

माना जाता है कि माघ पूर्णिमा के दिन स्वर्ग में रहने वाले देवी देवता धरती पर आते हैं. ऐसे में पूर्णिमा पर जो भी व्यक्ति स्नान के बाद दान करता है. उसे भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की विशेष कृपा प्राप्त होती है. स्नान के बाद दान करने से व्यक्ति के दुख कट जाते हैं. इस दिन मुख्य रूप से यमुना, गंगा और संगम में स्नान, पूजा व दान करने से मोष की प्राप्ति होती है. इन पवित्र नदियों का स्नान व्यक्ति को हर तरह के पाप से मुक्ति दिलाता है. 

 


यह भी पढ़ें: Sawan Shiv Puja: भगवान शिव पर भूलकर भी अर्पित न करें ये 5 चीजें, रुद्राभिषेक में रखें विशेष ध्यान, क्रोधित हो जाएंगे महादेव


स्नान दान के बाद करें भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा

माघ पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु के (Lord Vishnu And Maa Lakshmi Puja) साथ ही माता लक्ष्मी और चंद्र देव की पूजा करनी चाहिए. इसे व्यक्ति का मन और दिमाग शांत रहता है. घर में सुख और समृद्धि आती है. भगवान विष्णु व्यक्ति के भाग्य को जागृत करते हैं. व्यक्ति के सभी तरह के दोष और दुख दूर हो जाते हैं. 

Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. डीएनए हिंदी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

Advertisement

Live tv

Advertisement
Advertisement