Twitter
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Kanwar Yatra 2022: क्यों 'गंगा जल' ही भरते हैं कांवड़ यात्री, इसके पीछे भी है एक पौराणिक कथा

Kanwar Yatra कब से शुरू हो रही है, जानिए कांवड़ यात्री क्यों गंगा जल से करते हैं शिव का अभिषेक, इसके पीछे की पौराणिक कथा

article-main

डीएनए हिंदी वेब डेस्क

Updated: Jul 08, 2022, 01:13 PM IST

Edited by

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

TRENDING NOW

डीएनए हिंदी: सावन में कांवड़ यात्रियों (Sawan Kanwar Yatri) की बड़ी धूमधाम रहती है.सावन आते ही कांवड़ियों के अंदर एक अलग ही उमंग उत्साह आ जाता है. ये कांवड़ लेकर निकल पड़ते हैं. देवघर, हरिद्वार कई जगह से वे पानी भरते हैं और अपनी यात्रा शुरू करते हैं. सावन में कांवड़ यात्रा का काफी महत्व माना जाता है.

इस साल कांवड़ यात्रा 14 जुलाई से शुरू होकर 26 जुलाई तक चलने वाली है. इस दौरान श्रद्धालु गंगा से जल भरकर शिवजी को चढ़ाते हैं. इसके पीछे भी एक कहानी है. आईए जानते हैं कांवड़ यात्रा में गंगा से पानी भरकर ही क्यों शिव जी का अभिषेक किया जाता है 

यह भी पढ़ें- मंगला गौरी व्रत के बारे में जानें सब कुछ, उसका इतिहास भी

क्यों गंगा से भरते हैं पवित्र पानी (Why Kanwar Pilgrims takes Ganga Water in Hindi)

ऐसी  मान्यता है कि इस महीने में ही समुद्र मंथन के दौरान विष निकला और भगवान शिव ने उस विष का पान किया.जिसके बाद उनके शरीर में जहर फैल गया और उनका गला नीला हो गया, इसलिए उन्हें नीलकंठ कहा जाता है.देवताओं ने जब उन्हें देखा तो उनपर ठंडा पानी डाला और वे शांत हो गए लेकिन विष अंदर ही रहा.

यह भी पढ़ें- कांवड़ यात्रा के नियम, महत्व और इसकी पौराणिक कथा जान लें

इसके बाद से ही सावन के महीने में भगवान शिव जी पर जल चढ़ाने का रिवाज है. पहले देवताओं ने उन पर जल चढ़ाया.उसके बाद भगवान शिवजी के भक्त उन पर जल चढ़ाने लगे.कांवड़ के बारे में कहा जाता है कि सबसे पहले भगवान परशुराम ने कांवड़ से गंगा का पवित्र जल भगवान शिवजी पर चढ़ाया था उसके बाद भगवान शिवजी पर सावन के महीने में जल चढ़ाने की परंपरा शुरू हो गई. भोले के भक्त जय भोलेनाथ के नारों के साथ अपने कंधे पर कांवड़ लेकर चलते हैं. 

कांवड़ का मतलब कंधा और शिव भक्त कंधे  पर पवित्र जल का कलश या डिब्बा लेकर पैदल यात्रा करते हुए शिवलिंग पर चढ़ाते हैं. इस यात्रा के दौरान वे अपनी नजदीकी गंगा से जल भरते हैं. 

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों पर अलग नज़रिया, फ़ॉलो करें डीएनए  हिंदी गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

देश और दुनिया की ख़बर, ख़बर के पीछे का सच, सभी जानकारी लीजिए अपने वॉट्सऐप पर-  DNA को फॉलो कीजिए

Live tv