Twitter
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Lalu Yadav Health Update: लालू के बेटे का आरोप, 'पिताजी को एम्स में गीता पाठ से रोका गया, महापाप की सजा इसी जन्म में मिलेगी'

लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने एम्स प्रशासन पर बड़ा आरोप लगाया है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि एम्स प्रशासन पिताजी को गीता पाठ करने, सुनने से रोक रहा है. उन्होंने आगे लिखा है,यह महापाप है, इसी जन्म में इसकी सजा मिलेगी...

article-main

डीएनए हिंदी वेब डेस्क

Updated: Jul 12, 2022, 12:48 PM IST

Edited by

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

TRENDING NOW

डीएनए हिन्दी: बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) की तबीयत बेहद खराब है. दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा है. इस बीच उनके बड़े बेटे तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने ट्वीट कर एम्स प्रशासन पर बड़ा आरोप लगाया है. तेज प्रताप ने कहा कि लालू यादव को गीता पाठ करने और सुनने से रोका जा रहा है.

ध्यान रहे कि पटना में गिरने की वजह से उनके कंधे में फ्रैक्चर आ गया था. जिसके बाद उन्हें पटना के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वहां उनकी तबीयत खराब होने के बाद एयर एंबुलेंस के जरिए दिल्ली लाया गया था. जिस दिन उन्हें दिल्ली लाया गया उनकी हालत बेहद खराब थी. हालांकि, अब उनकी सेहत में सुधार है और उन्हें रविवार को क्रिटिकल केयर यूनिट (CCU) में शिफ्ट किया गया. उनकी सेहत में तेजी से सुधार हो रहा है.

तेज प्रताप यादव ने मंगलवार को ट्वीट कर लिखा, 'पिताजी को अस्पताल में श्रीमद्भागवत गीता पाठ करने एवं सुनने से रोक दिया गया है, जबकि पिताजी को गीता पाठ करना और सुनना काफी पसंद है. गीता पाठ से रोकने वाले उस अज्ञानी को ये नहीं पता कि इस महापाप की कीमत उसे इसी जन्म में चुकानी होगी.'

यह भी पढ़ें, Lalu Prasad Yadav को वापस मिलेगा पासपोर्ट, किडनी ट्रांसप्लांट के लिए जाएंगे सिंगापुर

तेज प्रताप ने इसके साथ एक फोटो भी शेयर किया है जिसमें लिखा है कि 'गीता शास्त्र संपूर्ण मानव जाति के उद्धार के लिए है. कोई भी व्यक्ति, किसी भी वर्ण, आश्रम या देश में स्थित हो, वह श्रद्धा, भक्तिपूर्वक गीता का पाठ करने पर परम सिद्धि को प्राप्त कर सकता है. अत: कल्याण की इच्छा करने वाले मनुष्यों के लिए आवश्यक है कि वे गीता पढ़ें और दूसरों को पढ़ाएं, यही कल्याणकारी मार्ग है. जय श्रीकृष्ण.'

बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और लालू के बड़े लाल ने इसके पहले भी भावुक ट्वीट किया था. 'उन्होंने लिखा था कि पिताजी आप जल्द स्वस्थ होकर घर आ जाइये. आप हैं तो सब है. प्रभु, मैं आपकी शरण में हूं, तब तक रहूंगा जब तक पापा घर नहीं आ जाते. मुझे बस पापा चाहिए और कुछ नहीं. न राजनीति और न ही कुछ और. बस मेरे पापा और सिर्फ पापा.

गौरतलब है कि लालू प्रसाद यादव झारखंड के दुमका ट्रेजरी में अवैध निकासी से जुड़े मामले में 19 मार्च 2018 से सजा काट रहे थे. खराब स्वास्थ्य को देखते हुए उन्हें रांची हाई कोर्ट ने अप्रैल 2021 में जमानत पर रिहा किया था. जेल से आने के बाद भी लालू की सार्वजनिक सक्रियता काफी कम थी.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों पर अलग नज़रिया, फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर 

देश और दुनिया की ख़बर, ख़बर के पीछे का सच, सभी जानकारी लीजिए अपने वॉट्सऐप पर-  DNA को फॉलो कीजिए

Live tv