Twitter
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Bulldozer Action पर बोले असदुद्दीन ओवैसी- इलाहाबाद हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस हो गए हैं योगी आदित्यनाथ

Bulldozer Action in UP: प्रयागराज में हुए बुलडोजर एक्शन पर असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि यूपी में अब अदालतों पर ताला लगाकर जजों को छुट्टी दे देनी चाहिए

article-main

योगी आदित्यनाथ पर बरसे असदुद्दीन ओवैसी

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

TRENDING NOW

डीएनए हिंदी: उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में हुई पत्थरबाजी की घटनाओं में आरोपी का घर गिराए जाने के मामले में असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने योगी आदित्यनाथ पर तीखा हमला बोला है. AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री, इलाहाबाद हाई कोर्ट के जज हो गए हैं. ओवैसी ने सवाल पूछा है कि क्या योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) खुद ही लोगों को दोषी बताएंगे और उनके घर गिरा देंगे?

पैगंबर मोहम्मद पर नूपूर शर्मा की टिप्पणी कई विवादों की जड़ बन चुकी है. कई राज्यों में प्रदर्शन और हिंसक घटनाएं भी हुई हैं. प्रयागराज में हुई हिंसक घटनाओं के बाद आरोपी जावेद अहमद के घर पर बुलडोज़र चलाकर उसे जमींदोज कर दिया गया. इसी मामले में विपक्ष के नेताओं ने योगी आदित्यनाथ सरकार की इस कार्रवाई पर सवाल उठाए.

यह भी पढ़ें- Sidhu Moose Wala हत्याकांड केस में फरार शूटर संतोष जाधव पुणे से हुआ गिरफ्तार

'अदालतों पर लगा देना चाहिए ताला'
असदुद्दीन ओवैसी ने गुजरात में एक कार्यक्रम के दौरान कहा, 'उत्तर प्रदेश के सीएम इलाहाबाद हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस बन गए हैं. वह किसी को दोषी ठहरा देंगे और उनके घर भी गिरा देंगे? जो घर गिराया गया वह आरोपी की पत्नी की नाम पर है जो कि एक मुस्लिम महिला हैं.' ओवैसी ने कहा कि यूपी में अदालतों पर ताला लगा देना चाहिए और जजों को कह देना चाहिए कि वे कोर्ट न आएं क्योंकि अब अदालतों की कोई ज़रूरत नहीं है.

यह भी पढ़ें- America में थम नहीं रही गोलीबारी, अब शिकागो में पांच लोगों की हत्या, 16 घायल

लखीमपुर में किसानों पर कार चढ़ाने के मामले का जिक्र करते हुए ओवैसी ने कहा, 'अजय मिश्रा टेनी का घर नहीं तोड़ा गया लेकिन फातिमा का घर तोड़ा जाएगा'. आपको बता दें कि प्रयागराज में जावेद अहमद का घर गिराए जाने के मामले में हाई कोर्ट में याचिका दायर की गई है.

अवैध निर्माण को गिराया गया: PDA
इस मामले में प्रयागराज विकास प्राधिकरण का कहना है कि मकान अवैध रूप से बनाया गया था. 25 मई को नोटिस भी दिया गया था कि घर खाली कर दिया जाए. घर खाली न किए जाने के बाद रविवार को पुलिस के साथ पहुंची प्रयागराज विकास प्राधिकरण की टीम ने कार्रवाई की और 'अवैध निर्माण' को गिरा दिया.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों पर अलग नज़रिया, फ़ॉलो करें डीएनए  हिंदी गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

देश और दुनिया की ख़बर, ख़बर के पीछे का सच, सभी जानकारी लीजिए अपने वॉट्सऐप पर-  DNA को फॉलो कीजिए

Live tv