Twitter
Advertisement
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Yoga For Digestion: पाचन को रखना है दुरुस्त तो रोज करें ये आसान योगासन, पेट से जुड़ी बीमारियां भी होंगी दूर

Best Yoga For Digestion: अगर आप आपने पाचन को हेल्दी रखना चाहते हैं तो रोजाना ये आसान योगासन जरूर करें. इससे पेट से जुड़ी बीमारियां भी दूर होंगी...

Latest News
article-main

Yoga For Digestion

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

आजकल की खराब लाइफस्टाइल, गड़बड़ खानपान और फिजिकल एक्टिविटी की कमी के कारण अक्सर लोग पाचन संबंधी (Stomach Diseases) समस्याओं से परेशान रहते हैं. ज्यादा ऑयली खाना खाने, जंक फूड और स्मोकिंग जैसी आदतें पाचन तंत्र पर बुरा असर डालती हैं. इसके कारण लोग कई गंभीर बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं. हालांकि, आज हम आपको कुछ ऐसे योगासन (Yoga For Digestion) के बारे में बता रहे हैं जो पेट और पाचन को (Healthy Digestion) हेल्दी रखने में आपकी मदद कर सकते हैं. ऐसे में अगर आप पाचन संबंधी समस्याओं से परेशान हैं तो रोजाना ये आसान योगासन जरूर करें, इससे आपको पेट से जुड़ी बीमारियों से भी छुटकारा मिलेगा. आइए जानते हैं इन आसान योगासन के बारे में...

पाचन और पेट को दुरुस्त रखने के लिए आसान योगासन (Best Yoga For Digestion)

वज्रासन से मिलेगा लाभ (Vajrasana Benefits)

वज्रासन पेट से जुड़ी कई तकलीफों को कम करने या दूर करने में काफी कारगर है. इसके लिए अपने पैरों को घुटनों से पीछे की तरफ मोड़ कर बैठ जाएं और रीढ़ की हड्डी को एकदम सीधा रखें. इसके बाद दोनों हाथों को घुटनों पर रखें और इसी पोजीशन में चंद मिनट रहें और गहरी सांस लेते रहें.

 


यह भी पढे़ं- Congenital Heart Disease क्या है? गर्भावस्था में इन गलतियों के कारण बढ़ता है इस बीमारी का खतरा


विपरीत करनी आसन करें  (Viparita Karani Asana)

इसके लिए एक दीवार से सट कर लेट जाएं और फिर उसी दीवार के सहारे दोनों पैरों को ऊपर की तरफ ले जाकर एकदम सीधा रखें. ध्यान रहे आपके पैर और सतह में 90 डिग्री का एंगल होना चाहिए. इसके लिए कम से कम पांच से पंद्रह मिनट तक इसी पोज में रहें. बता दें कि ऐसा करने से शरीर की गंदगी आसानी से बाहर निकलती है और एनर्जी बढ़ सकती है. 

पादहस्तासन से मिलेगा लाभ (Padahastasana)

इसके लिए बिल्कुल सीधे खड़े हो जाएं और फिर सांस लेते हुए हाथों को ऊपर तक ले जाएं, इसके बाद थोड़ा पीछे की तरफ झुकते हुए सांस छोड़ दें. इसके बाद अब एक बार फिर आपको आगे की तरफ झुकना है और गहरी सांस लेते हुए आगे की तरफ झुकें और उंगलियों से पैरों के अंगूठे छूने की कोशिश करें. ऐसे में पैरों को सीधा रखते हुए जितना झुक सकते हैं उतना ही झुकें. हालांकि अगर आपकी रीढ़ की हड्डी में कोई तकलीफ हो या घुटने से जुड़ी कोई परेशानी हो तो इस आसन को करने से पहले एक्सपर्ट की राय जरूर लें.


यह भी पढे़ं-  Acne या Pimples नहीं, चेहरे पर निकलने वाले लाल दाने हो सकते हैं इस गंभीर बीमारी के संकेत


पश्चिमोत्तासन है फायदेमंद (Paschimottanasana) 

इस योगासन को करने के लिए पैरों को सामने फैलाकर बैठ जाएं और अब आगे की तरफ झुकते हे दोनों हाथों से पैरों के पंजों को छुएं. साथ ही सिर को घुटनों के जितना करीब ला सकें, उतना करीब लेकर आएं. इसके अलावा कम से कम पांच बार इस पूरी प्रक्रिया को दोहराएं.

Disclaimer: यह लेख केवल आपकी जानकारी के लिए है. इस पर अमल करने से पहले अपने विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श लें.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

Advertisement

Live tv

Advertisement
Advertisement