Twitter
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Chest Pain: सीने में दर्द कहीं एनजाइना की वजह तो नहीं, एसिडिटी से मिलता-जुलता है लक्षण

Chest Pain: सीने में दर्द कई कारणों से होता है. कई बार इसके पीछे वजह एसिडिटी (Acidity) या गैस (Gas) भी होती है लेकिन जरूरी नहीं कि वजह यही तक सिमित हो. इसकी वजह एनजाइना पेन (Angina Pain) भी हो सकता है. ये दर्द दिल के दौरे (Heart Attack) से जुड़ा होता है.

article-main

ऋतु सिंह

Updated: Sep 10, 2022, 01:43 PM IST

Edited by

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

TRENDING NOW

डीएनए हिंदी: असल में जब हार्ट में ब्‍लड सर्कुलेशन बाधित होता है तब सीने में दर्द उठता है. ये  कोरोनरी आर्टरी डिजीज का एक लक्षण है. इसे एनजाइना पेक्टोरिस कहा जाता है. एनजाइना पेन एक से ज्‍यादा बार भी हो सकता है. एनजाइना का दर्द आमतौर पर जल्दी दूर हो जाता है और दवा और लाइफस्‍टाइल में बदलाव से इसे कंट्रोल किया जा सकता है. एनजाइना को नजरअंदाज करने का मतलब है कि हार्ट अटैक की संभावना को बढ़ना. 

एनजाइना का पता कैसे लगाएं?
अपच या गैस्ट्रिक के कारण होने वाले सीने में दर्द से एनजाइना के बीच अंतर करना थोड़ा मुश्किल होता है. हालांकि, एनजाइना के कुछ लक्षण के बारे में आप जान लें तो इसे आसानी से पहचान सकते हैं. 

यह भी पढ़ें: Diabetes symptoms: शुगर बढ़ते ही एक वीक में दिखने लगते हैं हाथ-पैर में ये लक्षण 

एनजाइना के सामान्य लक्षण हैं:

  • सीने में जलन महसूस होना
  • सीने पर बेहद दबाव महसूस होना
  • जकड़न या निचोड़ सा दर्द होना
  • सास फूलने लगना

एनजाइना से जुड़ा दर्द ऐसा होता है जैसे सीने में छुरा घोंपा जा रहा हो. साथ ही कई बार ये दर्द शरीर के अन्य हिस्सों जैसे हाथ, गर्दन, कंधे और यहां तक ​​कि जबड़े में भी दर्द होता है और ये स्‍पष्‍ट लक्षण होता है हार्ट अटैक का. इन सभी लक्षणों के साथ एक व्यक्ति को चक्कर आना, थकान, सांस लेने में तकलीफ और एनजाइना के दौरान अत्यधिक पसीना आने का अनुभव होता है; अपच के कारण होने वाले सीने में दर्द में ये लक्षण नहीं पाए जाते हैं.

यह भी पढ़ें: 

एनजाइना के अन्य लक्षण

  • उल्टी
  • पेट की ख़राबी
  • ब्रेस्टबोन के पीछे दर्द
  • पीठ में दर्द
  • गले में अचानक दर्द

एनजाइना के कई प्रकार होते हैं 

स्टेबल एनजाइना: यह एनजाइना का सबसे कॉमन टाइप है जो ज्‍यादातर तनाव के कारण होता है. या किसी भी शारीरिक गतिविधि की अधिकता के कारण होता है. यह आमतौर पर कुछ देर आराम करने के बाद चला जाता है.

अनस्‍टेबल एनजाइना: यह स्थिर एनजाइना की तुलना में अधिक गंभीर होता है. यह तब भी होता है जब व्यक्ति सक्रिय नहीं होता है. यह आने वाले दिल के दौरे का संकेत है.

यह भी पढ़ें: 

वैरिएंट एनजाइना: प्रिंज़मेटल एनजाइना के रूप में भी इसे जाना जाता है, एनजाइना का यह रूप हृदय की धमनियों में ऐंठन के कारण होता है, जिसके कारण ब्‍लड सर्कुलेशन में अस्थायी दिक्‍कत होती है. ये दर्द ज्यादातर आराम के समय या रात में होता है. 

रिफ्रेक्‍ट्री एनजाइना: ये दर्द कई बार दवाओं और अनहेल्‍दी लाइफस्‍टाइल के कारण होती है. 

माइक्रोवैस्कुलर एनजाइना: यह आमतौर पर महिलाओं में होता है क्योंकि सबसे छोटी कोरोनरी धमनियां सामान्य रूप से कार्य नहीं कर पाती हैं.

एनजाइना का दर्द कितने समय तक रहता है?

एनजाइना आमतौर पर 3-5 मिनट तक रहता है. हालांकि, अनस्‍टेबल एनजाइना का दर्द 15 मिनट तक चल सकता है. ये दर्द कई बार खत्‍म हो कर दोबारा भी आ जाता है.  कई घंटों में रुक-रुक कर हो सकता है.

कब होता है एनजाइना खतरनाक?

एनजाइना होने का मतलब यह नहीं है कि आपको दिल का दौरा पड़ेगा, लेकिन इसका निश्चित रूप से मतलब है कि आपके दिल को खतरा है. जब हार्ट लंबे समय तक काम करना बंद करता है तब एनजाइना जान ले सकती है. ब्लॉकेज के कारण जब ब्‍लड हार्ट तक नहीं पहुंच पाता है और ऑक्सीजन नहीं पहुंचता तब दिल की धड़कन बंद हो जाती है. 

(Disclaimer: हमारा लेख केवल जानकारी प्रदान करने के लिए है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें.) 


देश-दुनिया की ताज़ा खबरों (Latest News) पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में (Hindi News) पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर

देश और दुनिया की ख़बर, ख़बर के पीछे का सच, सभी जानकारी लीजिए अपने वॉट्सऐप पर-  DNA को फॉलो कीजिए

Live tv