Twitter
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

एडल्ट कॉमेडी 'मस्तीजादे' के बाद तिरुपति मंदिर क्यों गए थे Tusshar Kapoor? किताब में किया खुलासा

तुषार कपूर (Tusshar Kapoor) ने अपनी किताब में फिल्म 'मस्तीजादे' से जुड़ा एक किस्सा बयां किया है.

Latest News
article-main

Tusshar Kapoor 

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

TRENDING NOW

डीएनए हिंदी: बॉलीवुड अभिनेता तुषार कपूर (Tusshar Kapoor) इन दिनों फिल्मों में ज्यादा एक्टिव नहीं हैं लेकिन एक वक्त पर उन्होंने कई फिल्में की हैं. तुषार कपूर फिल्मों की लिस्ट में एक एडल्ट कॉमेडी फिल्म 'मस्तीजादे' भी शामिल है. सात साल पहले रिलीज हुई इस फिल्म को लेकर उस दौर में जबरदस्त विवाद हुआ था और फिल्म को आज भी क्रिटिसिज्म झेलना पड़ता है. इस फिल्म को लेकर तुषार ने अपनी किताब 'बैचलर डैड: माय जर्नी टू फादरहुड एंड मोर' (Bachelor Dad: My Journey To Fatherhood And More) में बात की है. इसके अलावा उस दौर का एक दिलचस्प किस्सा भी बताया है.

मस्तीजादे से जुड़ा किस्सा

'मस्तीजादे' 2016 में रिलीज हुई थी जिसमें तुषार कपूर के अलावा सनी लियोनी और वीर दास भी नजर आए थे. तुषार ने अपनी किताब में बताया कि किस तरह इस एडल्ट कॉमेडी फिल्म के लिए CBFC से क्लियरेंस मिलने के लिए टीम को कितने पापड़ बेलने पड़े. किताब में तुषार ने बताया कि ये फिल्म मई 2015 में बनकर तैयार हो गई थी और इसके बाद वो 2016 में 'क्या कूल हैं हम 3' की शूटिंग कर रहे थे. उसी वक्त उन्हें खबर मिली कि फिल्म 'मस्तीजादे' को सेंसर से सर्टिफेकेट नहीं मिल पाया है. जिसका दोषी इस फिल्म के एडल्ट कंटेंट को ठहराया गया.

ये भी पढ़ें- Raqesh Bapat ने खरीदी आलीशान लक्जरी Audi Q7, जानें- कार से जुड़ी खास बातें

इसलिए लगा था डर

ये खबर सुनकर तुषार डर गये थे क्योंकि उस वक्त उनकी अगली फिल्म 'क्या कूल हैं हम 3' भी कुछ ऐसी ही थी और इस फिल्म के सामने भी यही मुसीबत आ सकती थी. तुषार कपूर ने अपनी किताब में बताया कि 'सोशल मीडिया पर ऐसी हेडलाइन्स से हचलच मची हुई थी जिनमें लिखा था- मस्तीजादे बैन कर दी गई है'.

ये भी पढ़ें- Gehraiyaan Review: नाम को सार्थक नहीं कर पाती Deepika Padukone फिल्म, जानें- कहां चूक गए डायरेक्टर शकुन बत्रा 

मंदिर पहुंचे तुषार

इन सबके बीच तुषार ने भगवान की मदद मांगना ठीक समझा और वो तिरुपती में भगवान बालाजी मंदिर के दर्शन करने पहुंच गए. तुषार साल में एक बार बालाजी मंदिर जरूर जाते हैं. तुषार कहते हैं कि उन्हें भले ही अंधविश्वासी समझा राए लेकिन वो भगवान की ताकत में विश्वास रखते हैं और किसी भी फिल्म की रिलीज से पहले जब भी वो मंदिर जाते हैं तो अपने मन को शांत पाते हैं. वहीं, मस्तीजादे के वक्त भी जब उन्होंने इसे लेकर प्रार्थना की तो फिल्म की रिलीज तय हो गई थी.

देश और दुनिया की ख़बर, ख़बर के पीछे का सच, सभी जानकारी लीजिए अपने वॉट्सऐप पर-  DNA को फॉलो कीजिए

Live tv