Twitter
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Lata Mangeshkar ने करवाया था अपनी आवाज का इंश्योरेंस, इस वजह से छह महीने तक रखा मौन व्रत

लता मंगेशकर ने 20 भाषाओं में 30,000 से भी ज्यादा गाने गाए हैं. लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि उन्होंने अपनी आवाज का इंश्योरेंस भी करवाया हुआ था. 

article-main

Lata Mangeshkar Covid Positive

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

TRENDING NOW

डीएनए हिंदी: 'मेरी आवाज ही मेरी पहचान हैं' जैसा गाना गाने वाली लता मंगेशकर का जीवन भी इस गीत की मिसाल ही है. ईश्वर ने उन्हें ऐसी आवाज दी कि उन्हें हमेशा स्वर कोकिला कहकर याद किया जाता रहेगा. छह दशकों से ज्यादा समय तक उन्होंने संगीत की दुनिया को अपने सुरों से सजाया. लता मंगेशकर ने 20 भाषाओं में 30,000 से भी ज्यादा गाने गाए हैं. लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि उन्होंने अपनी आवाज का इंश्योरेंस भी करवाया हुआ था. 

सन् 1960 में उन्हें वोकल कॉर्ड्स में कुछ समस्या पैदा हुई थी. इस घटना के बारे में जिक्र करते हुए एक बार उनके भाई हृदयनाथ मंगेशकर ने यह खुलासा किया था. हृदयनाथ ने बताया था कि वोकल कॉर्ड्स में हुई उस समस्या के बाद लता ने अपने वोकल कॉर्ड्स का इंश्योरेंस करवा लिया था. 

Lata Mangeshkar के निधन पर दो दिन का राष्ट्रीय शोक, शाम 6.30 बजे होगा अंतिम संस्कार

उस दौरान लता मंगेशकर ने उस्ताद आमिर खान से अपनी समस्या शेयर की. उन्होंने लता दीदी को छह महीने तक मौन रहने की सलाह दी. एक साल तक लता मंगेशकर ने कोई गाना नहीं गाया. सन् 1962 में उन्होंने फिर से बॉलीवुड में वापसी की. उनका गाना था- कहीं दीप जलें कहीं दिल. इस गाने के लिए उन्हें बेस्ट फीमेल प्लेबैक सिंगर का अवॉर्ड भी मिला था. 

...जब Lata Mangeshkar को सुनकर रो पड़े थे पंडित जवाहरलाल नेहरू

जब O.P.Nayyar ने खाई थी लता मंगेशकर के साथ काम ना करने की कसम

वैसे लता मंगेशकर ही नहीं साउथ के सुपरस्टार रजनीकांत ने भी अपनी आवाज का इंश्योरेंस करवाया हुआ है. उनके पास उनकी आवाज का कॉपीराइट भी है. मतलब कोई भी उनकी आवाज की मिमिक्री भी नहीं कर सकता उनकी परमिशन के बिना. 

साल 1963 था lata mangeshkar की जिंदगी का सबसे दुखद वक्त, जानें क्या हुआ था ऐसा

देश और दुनिया की ख़बर, ख़बर के पीछे का सच, सभी जानकारी लीजिए अपने वॉट्सऐप पर-  DNA को फॉलो कीजिए

Live tv