Twitter
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

शेयरों में इंवेस्ट करते समय किस Mathematical Formula का यूज करते थे Rakesh Jhunjhunwala, जानिये यहां

झुनझुनवाला ने शेयरों में 5,000 रुपये के साथ अपना निवेश शुरू किया जब सेंसेक्स (Sensex) सिर्फ 150 पर था. उनका पहला स्टॉक टाटा टी था, जब वे अपने कॉलेज में थे. फोर्ब्स के अनुसार, वास्तविक समय के आधार पर उनकी शुद्ध संपत्ति बढ़कर 5.8 बिलियन करोड़ डॉलर से अधिक हो गई. स्टॉक और ट्रेडिंग में उनकी दिलचस्पी बचपन से ही बढ़ गई थी.

article-main
FacebookTwitterWhatsappLinkedin

TRENDING NOW

डीएनए हिंदीः दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala Death) हमारे बीच नहीं रहे. उन्होंने आज सुबह मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में अंतिम सांस ली. राकेश झुनझुनवाला को 'बिग बुल ऑफ दलाल स्ट्रीट्स' या 'मार्केट बुल' या 'बिग बुल' जैसे कई नामों से जाना जाता था और यहां तक ​​कि उन्हें अक्सर 'वॉरेन बफेट ऑफ इंडिया' भी कहा जाता था. उन्होंने इक्विटी से करोड़पति या अरबपति बनने के समान सपने रखने वाले कई निवेशकों नई राह दिखाई लेकिन जैसे हर सफलता की कहानी का एक फॉर्मूला और एक बैकग्राउंड होता है, झुनझुनवाला के पास भी एक था. उनके पास एक मैथेमैटिकल फॉर्मूला (Rakesh Jhunjhunwala Mathematical Formula)था जिससे उन्हें अपने शेयरों की पहचान करने में मदद मिली और उनमें से अधिकांश ने मजबूत प्रदर्शन दिया.

झुनझुनवाला ने शेयरों में 5,000 रुपये के साथ अपना निवेश शुरू किया जब सेंसेक्स (Sensex) सिर्फ 150 पर था. उनका पहला स्टॉक टाटा टी था, जब वे अपने कॉलेज में थे. फोर्ब्स के अनुसार, वास्तविक समय के आधार पर उनकी शुद्ध संपत्ति बढ़कर 5.8 बिलियन करोड़ डॉलर से अधिक हो गई. स्टॉक और ट्रेडिंग में उनकी दिलचस्पी बचपन से ही बढ़ गई थी. वह अपने पिता की बात सुनते थे और बाद में दोस्तों के साथ शेयर बाजार पर चर्चा करते थे. उन्होंने शेयर बाजार को बहुत पेचीदा पाया क्योंकि कीमतों में उतार-चढ़ाव होता था और उन्हें आश्चर्य होता था कि ऐसा क्यों हुआ.

यह भी पढ़ेंः- Rakesh Jhunjhunwala की मौत के बाद Akasa Air ने किया दिल छू लेने वाला पोस्ट, जानिए क्या कहा...

1984 में, राकेश ने शेयरों में निवेश और ट्रेडिंग करके करियर बनाने की चुनौती ली. इसी दौरान उन्होंने चार्टर्ड अकाउंटेंट (सीए) की पढ़ाई पूरी की. फॉर्मूला जादुई रूप से झुनझुनवाला के पास नहीं आया, उन्हें शेयरों और बाजारों पर ध्यान केंद्रित करना और उनका गहन अध्ययन करना था. उन्हें स्टॉक पर बहुत गहन अध्ययन करना पड़ा क्योंकि वे उनकी आजीविका थे.

अंततः उन्हें एक साधारण मैथेमैटिकल इक्वेशन से परिचित कराया गया. उन्होंने आउटलुक इंडिया के पूर्व संपादक एन महालक्ष्मी के साथ एक इंटरव्यू में कहा कि मुझे एक साधारण मैथेमैटिकल इक्वेशन से परिचित कराया गया था. प्रति शेयर अर्निंग (ईपीएस) गुणा प्राइस-अर्निंग रेश्यो (पीईआर) = प्राइस. यह स्पष्ट था कि जब दोनों वैरिएबल मूल्य निर्धारित करते हैं, यानी ईपीएस और प्रति लाभ, तो स्टॉक की कीमतों में विस्फोट होता है. 

यह भी पढ़ेंः- Rakesh Jhunjhunwala Favorite Share ने निवेशकों को बनाया करोड़पति, 20 साल में दिया 83,250 फीसदी का रिटर्न 

इंटरव्यू में उन्होंने खुलासा किया कि शेयरों में सभी लाभ कुछ प्रचलित कारकों के कारण उत्पन्न होते हैं जो प्रकृति में गतिशील होते हैं. अपने विश्लेषण के दौरान उन्होंने महसूस किया, कि एब्स्यूल्यूट प्रोफिटिबिलिटी को प्रोजेक्ट करने की कोशिश करने के बजाय, उन्होंने उन कारणों और परिस्थितियों को समझने का फैसला किया जो उन्हें इन मुनाफे में वृद्धि देते हैं. झुनझुनवाला के अनुसार, ईपीएस प्रत्येक कंपनी के लिए बहुत विशिष्ट था, जबकि पीईआर विभिन्न कारकों पर निर्भर था जिसमें कंपनी के आंतरिक और बाहरी दोनों शामिल थे.

उन्होंने इंटरव्यू में कहा कि ईपीएस तीन कारकों पर निर्भर करता है - अकाउंटिंग पाॅलिसी का पालन, मुनाफे का कैश प्रोफाइल, और, इंप्लाॅयड कैपिटल पर रिटर्न, जो कि पूंजी का कुशल उपयोग है. इस बीच, उन्होंने समझाया कि आंतरिक स्थितियां जो पीईआर का निर्धारण करने में मदद करती हैं, वे हैं रिवाॅर्ड रिकॉर्ड, कमाई की प्रिडिक्टिबिलिटी, रिस्क मॉडल, ग्रोथ अपाॅच्यूर्निटी और प्रबंधन की कथित अखंडता. उन्होंने कहा था कि किसी कंपनी के भविष्य के ईपीएस और पीईआर की भविष्यवाणी करने के लिए वास्तविक जीवन के कारोबार को समझने की जरूरत है. इसके अलावा, साक्षात्कार में उन्होंने कहा, ईपीएस की भविष्यवाणी मुख्य रूप से ‘विज्ञान और आंशिक रूप से कला‘ थी. हालांकि, प्रति पूर्वानुमानों के साथ ऐसा नहीं था. उन्होंने कहा कि पीईआर हर छोटे से विज्ञान के साथ कला है.

यह भी पढ़ेंः- Rakesh Jhunjhunwala Quotes: वो 10 शेयर मार्केट इंवेस्मेंट मंत्र, जिनसे बनाया जा सकता है पैसा 

उन्होंने पीईआर को ‘खाना पकाने और सेक्स की तरह‘ के रूप में वर्णित किया था, इसे सिखाया नहीं जा सकता, लेकिन इसे सीखना होगा. उन्होंने साक्षात्कार में आगे स्वीकार किया कि ‘पीई को समझना / भविष्यवाणी करना सबसे कठिन है और सफल निवेश के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक है. बिग बुल के अनुसार, सफल निवेश की सामग्री मौजूदा उम्मीदों और भविष्य के संभावित प्रदर्शन के बीच अंतराल का पता लगाने में थी, जिसने उन्हें एक निवेशक के रूप में अनुकूल संभावनाएं प्रदान कीं.

ईपीएस उन महत्वपूर्ण कारकों में से एक है जो कंपनी की प्रोफिटिबिलिटी का संकेत देते हैं. ईपीएस एक सामान्य मीट्रिक है और यह दिखाने में मदद करता है कि फर्म अपने स्टॉक के प्रत्येक शेयर के लिए कितना पैसा कमाती है. आंकड़ों की गणना कंपनी के नेट प्राॅफिट को उसके सामान्य स्टॉक के बकाया शेयरों से विभाजित करके की जाती है. आम तौर पर, ईपीएस संख्या जितनी अधिक होगी, कंपनी उतनी ही अधिक लाभदायक होगी.

यह भी पढ़ेंः- Rakesh Jhunjhunwala ने ‘चाय‘ से बनाया था अपनी जिंदगी का पहला बड़ा Profit, जानिए कैसे  

पीईआर महत्वपूर्ण मीट्रिक में से एक है जो यह समझने में मदद करता है कि कोई स्टॉक सस्ता है या महंगा. वे स्टॉक के भविष्य के प्राइस लेवल को समझने में भी मदद करते हैं. यह मीट्रिक शेयरों के वैल्यूएशन के लिए सबसे लोकप्रिय कारकों में से एक है. यह एक लिस्टिड कंपनी के शेयर की कीमत का उसकी प्रति शेयर आय (ईपीएस) से अनुपात है.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

देश और दुनिया की ख़बर, ख़बर के पीछे का सच, सभी जानकारी लीजिए अपने वॉट्सऐप पर-  DNA को फॉलो कीजिए

Live tv

पसंदीदा वीडियो