Twitter
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Amazon ने शुरू की छंटनी, कर्मचारियों ने कहा—'ठीक नहीं है ऐसा बर्ताव' 

Amazon के दुनियाभर में 15 लाख से अधिक कर्मचारी हैं. अन्य टेक कंपनियों की तरह अमेजन को भी कोविड-19 के दौरान खासा फायदा हुआ था.

article-main
FacebookTwitterWhatsappLinkedin

TRENDING NOW

डीएनए हिंदी: व्यापक आर्थिक माहौल को लेकर बढ़ती चिंताओं के बीच अमेजन (Amazon) ने अपने वर्कफोर्स में बड़े पैमाने पर छंटनी शुरू कर दी है. कंपनी ने मंगलवार को कैलिफोर्निया में अपने क्षेत्रीय अधिकारियों को सूचित किया कि विभिन्न केंद्रों से करीब 260 लोगों को निकाला जाएगा. जिन केंद्रों से छंटनी की जाने वाली है वहां पर डेटा सांइटिस्ट, सॉफ्टवेयर इंजीनियर तथा अन्य कॉरपोरेट कर्मचारी काम करते हैं. छंटनी का यह कदम 17 जनवरी से प्रभाव में आएगा. 

रेवेन्यू पर पड़ा है काफी असर 
अमेजन के दुनियाभर में 15 लाख से अधिक कर्मचारी हैं. अन्य प्रौद्योगिकी एवं सोशल मीडिया कंपनियों की तरह ई-वाणिज्य कंपनी अमेजन को भी कोविड-19 के दौरान खासा फायदा हुआ था लेकिन महामारी का प्रकोप कम होने से ई-वाणिज्य पर उपभोक्ताओं की निर्भरता घट गई जिसका असर उसकी राजस्व वृद्धि पर पड़ा. लागत कम करने के लिए अमेजन अपनी कई परियोजनाओं को रोक रही है जिनमें उसकी अनुषंगी फेब्रिक डॉट कॉम, अमेजन केयर और कूलर के आकार का होम डिलिवरी रोबोट स्काउट शामिल है.

19 नवंबर को बैंक हड़ताल: पूरे देश में हड़ताल के कारण बैंकिंग सेवाएं होंगी प्रभावित

रोजगार देने को लेकर रहेंगे अधिक सतर्क 
कंपनी नए गोदाम लेने की योजनाओं को भी टाल रही है या रद्द कर रही है. अमेजन के मुख्य वित्तीय अधिकारी ब्रायन ओलसावस्काय ने कहा कि कंपनी वृद्धि में नरमी की अवधि के लिए तैयारी कर रही है और निकट भविष्य में रोजगार देने को लेकर भी सतर्क रूख अपनाएगी. अमेजन में बड़े पैमाने पर छंटनी सामान्य तौर पर नहीं होती, हालांकि 2018 और 2001 में उसने छंटनी की थी. 

कर्मचारियों की काफी तीखी प्रतिक्रिया 
वाशिंगटन पोस्ट ने पहले बताया था कि अमेजन के कर्मचारियों को मंगलवार को देश भर में अपने प्रबंधकों के साथ बैठकों में बुलाया गया था और कई लोगों को बताया गया था कि उनके पास आंतरिक रूप से दूसरी नौकरी खोजने या सी​वियरेंस पेमेंट एक्सेप्ट करने के लिए दो महीने का समय है.

इस फैसले पर कर्मचारियों ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. कंपनी के एक वरिष्ठ प्रबंधक ने रिकोड को बताया कि इस मामले की सच्चाई यह है कि अगर कंपनी अधिक पारदर्शी होती, तो हमारे पास यह शिटशो नहीं होता. अब कई कर्मचारियों को ऐसा लगने लगा है कि क्या अगला नंबर उनका तो नहीं है. 

पेंशन को लेकर बड़ी खबर, एकमुश्त पेंशन पेमेंट पर सरकार ने जारी किया स्पष्टीकरण

अमेजन के एक अन्य वरिष्ठ प्रबंधक ने कहा कि मुझे यह भी नहीं पता कि मैं इस कंपनी के लिए और काम करना चाहता हूं या नहीं. यह लोगों के साथ ट्रीट करने का काफी भयानक तरीका है. आपको बता दें कि मेटा, ट्विटर, सेल्सफोर्स और अन्य ने पहले ही हजारों कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया है, जिसमें अकेले मेटा फायरिंग से 11,000 से अधिक कर्मचारी हैं.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

देश और दुनिया की ख़बर, ख़बर के पीछे का सच, सभी जानकारी लीजिए अपने वॉट्सऐप पर-  DNA को फॉलो कीजिए

Live tv

पसंदीदा वीडियो