Twitter
Advertisement
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Farmers Protest: खनौरी बॉर्डर पर 22 साल के किसान की गोली लगने से मौत, 3 दिन पहले आंदोलन में हुआ था शामिल

Farmers Protest: किसान नेताओं का कहना है कि खनौरी बॉर्डर पर 20 वर्षीय किसान शुभकरण सिंह की कथित गोली लगने से मौत हो गई. शुभकरण मात्र दो या तीन एकड़ जमीन का मालिक था.

Latest News
article-main

farmers protest

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

फसलों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) समेत कई मुद्दों पर सरकार के साथ चौथे दौर की बातचीत विफल होने के बाद किसानों ने आंदोलन तेज कर दिया है. पंजाब-हरियाणा बॉर्डर से भारी तादाद में किसान दिल्ली की ओर बढ़ने का प्रयास कर रहे हैं. लेकिन शंभू और खनौरी बॉर्डर पर पुलिस आंसू गैस के गोले दागते हुए उन्हें रोकने की कोशिश कर रही है. इस बीच खनौरी बॉर्डर से एक युवा किसान की मौत की खबर आई है.

किसान नेताओं का कहना है कि खनौरी बॉर्डर पर 20 वर्षीय किसान शुभकरण सिंह की कथित गोली लगने से मौत हो गई. शुभकरण मात्र दो या तीन एकड़ जमीन का मालिक था. वह तीन-चार दिन पहले ही खनौरी बॉर्डर पर किसान आंदोलन में शामिल हुआ था. इस घटना के बाद पूरे गांव में शौक की लहर है. शुभकरण सिंह दो बहनों का इकलौता भाई था. 

किसान पिछले कई दिन से शंभू बॉर्डर पर डटे हुए हैं. मंगलवार सरकार के साथ जब चौथे दौर की बातचीत विफल हो गई तो किसानों ने दिल्ली चलो आंदोलन का ऐलान कर दिया. किसान जब बैरिकेड की ओर बढ़ने लगे तो पुलिस ने उन्हें तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े. थोड़ी देर के विराम के बाद फिर ऐसी ही घटना हुई. शंभू सीमा पर प्रदर्शन स्थल के ऊपर एक ड्रोन भी देखा गया. आंसू गैस के गोले छोड़े जाने के बाद अराजकता की स्थिति पैदा हो गई और किसानों को इलाके में धुआं फैलने के कारण बचने के लिए इधर-उधर भागते देखा गया.


यह भी पढ़ें: भारत जोड़ो न्याय यात्रा छोड़कर विदेश क्यों जा रहे राहुल गांधी? जानिए क्या है वजह


किसान नेताओं ने किसानों से सीमा बिंदुओं पर शांति बनाए रखने को कहा है। प्रदर्शनकारी किसानों ने सरकारी एजेंसियों द्वारा 5 साल तक दालें, मक्का और कपास एमएसपी पर खरीदने के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत केंद्र सरकार के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है. हजारों किसानों ने 13 फरवरी को दिल्ली की ओर मार्च शुरू किया था. इन किसानों को हरियाणा सीमा पर ही रोक दिया गया था, जहां उनकी सुरक्षाकर्मियों से झड़प हुई थी.

एक किसान ने की आत्महत्या की कोशिश
वहीं, मुफ्फरनगर में डीएम कार्यलय पर चल रहे भाकियू के धरने पर एक किसान ने आत्महत्या करने की कोशिश की. किसानों ने मुश्किल से आग बुझाकर उसे बचाया. घायल किसान का अस्पताल में उपचार चल रहा है, जहां उसकी हालत नाजुक बताई जा रही है.

किसान तब से हरियाणा के साथ लगती पंजाब की सीमा पर शंभू और खनौरी बॉर्डर पर डेरा डाले हुए हैं. संयुक्त किसान मोर्चा (गैर-राजनीतिक) और किसान मजदूर मोर्चा फसलों के लिए एमएसपी पर कानूनी गारंटी और कृषि कर्ज माफी समेत अपनी मांगों को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत केंद्र सरकार पर दबाव बनाने के लिए ‘दिल्ली चलो’ मार्च का नेतृत्व कर रहे हैं.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

Advertisement

Live tv

Advertisement
Advertisement