Twitter
Advertisement
  • LATEST
  • WEBSTORY
  • TRENDING
  • PHOTOS
  • ENTERTAINMENT

Dermatomyositis क्या है जिससे दंगल फेम सुहानी थीं पीड़ित? शरीर में सूजन-लाल चकत्ते जैसे दिखते हैं संकेत

Dermatomyositis एक रेयर और जानलेवा बीमारी है, इसके कारण मांसपेशियों में सूजन और त्वचा में चकत्ते पड़ने लगते हैं. आइए जानते हैं क्या है इसके लक्षण....

Latest News
article-main

Dermatomyositis Symptoms

FacebookTwitterWhatsappLinkedin

आमिर खान (Aamir Khan) की फिल्म दंगल में काम कर चुकीं 'दंगल गर्ल' (Dangal Girl) सुहानी भटनागर ने 16 फरवरी के दिन दुनिया को अलविदा कह दिया. सुहानी महज 19 साल की थीं. मीडिया रिपोट्स के मुताबिक एक्ट्रेस पिछले 2 महीने से बेड पर थीं और डर्मेटोमायोसाइटिस से जूझ रही थीं. बता दें कि डर्मेटोमायोसाइटिस (Dermatomyositis) एक रेयर और जानलेवा बीमारी है. सुहानी (Suhani Bhatnagar) को 2 महीने पहले उल्टे हाथ में सूजन आनी शुरू हुई थी और फिर सूजन की समस्या धीरे-धीरे पूरे शरीर में फैलने लगी. मीडिया रिपोट्स के मुताबिक एम्स में भर्ती कराने के बाद पता चला कि सुहानी को डर्मेटोमायोसाइटिस (Dermatomyositis Disease) नाम की दुर्लभ बीमारी हुई थी. आइए जानते हैं क्या है ये बीमारी और इसके लक्षण क्या हैं....

क्या है डर्मेटोमायोसाइटिस? (What Is Dermatomyositis)

हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, डर्मेटोमायोसाइटिस एक रेयर बीमारी है और इस बीमारी के कारण मांसपेशियों में सूजन हो जाती है और त्वचा में चकत्ते पड़ जाते हैं. मायोसाइटिस का मतलब होता है कि मसल्स में इंफ्लेमेशन यानी दर्द और सूजन है. इतना ही नहीं इस बीमारी के कारण शरीर की इम्यूनिटी बहुत कमजोर हो जाती है और शरीर बीमारियों से लड़ने के काबिल नहीं रह पाती है. डॉक्टरों का कहना है कि सही समय पर अगर इस बीमारी की पहचान हो जाए और विशेषज्ञों की निगरानी में इलाज करवाया जाए तो इससे होने वाली समस्याओं से राहत पाई जा सकती है.

यह भी पढे़ं- Congenital Heart Disease क्या है? गर्भावस्था में इन गलतियों के कारण बढ़ता है इस बीमारी का खतरा

डर्मेटोमायोसाइटिस के लक्षण क्या हैं? (Dermatomyositis Symptoms)

हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक डर्मेटोमायोसाइटिस में सबसे पहला लक्षण स्किन पर देखने को मिलता है. इसके कारण स्किन धीरे-धीरे डार्क होने लगती है और रैशज की समस्या होने लगती है. इसका असर आंखों के आसपास और चेहरे पर भी दिखाई देता हैं. बता दें कि ये रैशज खुजली और दर्द से भरे हो सकते हैं. 

इसके अलावा इस बीमारी में मरीज को बैठने, वजन उठाने, सीढ़ियां चढ़ने-उतरने में बहुत तकलीफ होती है और बेवजह थकान का एहसास होता रहता है. इस बीमारी के कारण अपर बॉडी की मसल्स धीरे-धीरे कमजोर होने लगती है और आगे चलकर समस्या और भी ज्यादा गंभीर हो जाती है.  

डर्मेटोमायोसाइटिस होने का कारण क्या है?  (Dermatomyositis Causes)

इस बीमारी की वजहों का सही तरह से पता नहीं लग पाय है, लेकिन एक्सपर्ट्स का मानना है कि यह एक ऑटोइम्यून डिजीज है, ऐसी स्थिति में पीड़ित व्यक्ति का इम्यून सिस्टम अपने ही हेल्दी टिश्यू पर हमला करने लगता है. इसके पीछे जेनेटिक्स या फिर कुछ खास तरह की दवाइयां, वायरस इन्फेक्शन, स्मोकिंग जैसे दूसरे कारण भी जिम्मेदार हो सकते हैं.  

यह भी पढे़ं-  गठिया-जोड़ों के दर्द में दवा का काम करती हैं इस फूल की पत्तियां, जानें इस्तेमाल का सही तरीका

क्या है डर्मेटोमायोसाइटिस का इलाज (Dermatomyositis Treatment)

डर्मेटोमायोसिटिस एक ऐसी बीमारी है जिसका कोई पूरा इलाज नहीं है. हालांकि इसके लक्षणों को कम किया जा सकता है. हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक इसमें इलाज का मुख्य लक्ष्य होता है इन चकत्तों को ठीक करना और मांसपेशियों को फिर से मजबूत बनाना. इसके लिए डॉक्टर कुछ खास दवाइयों, थेरेपी और कभी-कभी खास तरह का खानपान का सुझाव देते हैं. 

Disclaimer: यह लेख केवल आपकी जानकारी के लिए है. इस पर अमल करने से पहले अपने विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श लें.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगलफ़ेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

Advertisement

Live tv

Advertisement
Advertisement